+

अगर होली की मस्ती हुई आउट ऑफ कंट्रोल, तो जाना पड़ेगा जेल

होली का त्योहार उत्साह और रंगों से भरा होता है। सभी लोग एक-दूसरे पर रंग लगाकर इस त्योहार का आनंद लेते हैं। इस दौरान कुछ लोग होली के उल्लास में इस तरह डूब जाते हैं कि उन्हें जाने-अंजाने कानूनी लफड़े में फंसना पड़ जाता है। क्योंकि होली सिर्फ पुरुषों का नहीं बल्कि महिलाओं का भी त्योहार है। इसलिए महिलाएं भी इसे खूब उत्साह के साथ मनाती हैं। ऐसे में यदि कोई पुरुष किसी महिला पर रंग लगाने के लिए या फिर किसी अन्य प्रकार की जोर जबरदस्ती करे तो उसे जेल में भी जाना पड़ सकता है। 

प्रतीकात्मक

दरअसल महिलाओं की सुरक्षा के लिए भारतीय दंड संहिता में कुछ कानून हैं, जिसके अनुसार महिलाओं के साथ किसी प्रकार के अनुचित व्यव्हार करने वाले के खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाई होती है। ऐसे मामलों में पुलिस आरोपियों के खिलाफ धारा 354 के तहत मुकदमा दर्ज करती है। 

IPC की धारा 354 का पूरा मामला 

प्रतीकात्मक

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 354 का उपयोग उन मामलों में किया जाता है, जब महिलाओं के साथ जोर जबरदस्ती करके उनकी मर्यादा और मान सम्मान को नुकसान पहुंचाया जाता है। उनको गलत नीयत से छुआ जाता है या फिर उन पर किसी प्रकार की आपत्तिजनक टिप्पणी की जाती है। इसके अलावा महिलाओं से गलत तरीके से किया गया बर्ताव भी इसी धारा के दायरे में आता है। 

क्या है इस मामले में सजा

भारतीय दंड संहिता के मुताबिक यदि किसी व्यक्ति पर धारा 354 लगाई जाती है या इसके तहत यदि आरोपी पर दोष सिद्ध हो जाता है, तो दो साल तक की कैद या जुर्माना या फिर दोनों तरह की सजा हो सकती है।