+

परिवार पर संकट तथा आर्थिक समस्या का संकेत देती है तुलसी

तुलसी को शास्त्रों में देवी स्वरूपा माना गया है। बताया गया है कि तुलसी भगवान विष्णु को बहुत प्रिय हैं। इस कारण ही पूजा पाठ के दौरान ख़ास तौर पर भगवान विष्णु के पूजन में तुलसी की पत्तियों का उपयोग किया ही जाता है। तुलसी को एक संवेदनशील पौधा भी माना जाता है। माना जाता है कि यदि आपके परिवार पर कोई संकट या आर्थिक समस्या आने वाली हैं तो यह पौधा आपको समय से पहले संकेत दे देता है। 

प्रतीकात्मक

जिस घर में आर्थिक संकट या कोई समस्या आने वाली होती है तो उस घर का तुलसी का पौधा सूख जाता है। काफी देखभाल के बाद में यदि घर का पौधा बढ़ नहीं पा रहा हो तथा बार बार सूख जाता हो तो माना जाता है कि घर पर जल्दी ही कोई संकट आने वाला है। इस प्रकार के संकेत किसी भी अनहोनी को बताते हैं। ऐसे समय में किसी भी कार्य को ध्यान से करना चाहिए तथा अपना आचरण सही रखना चाहिए। माना जाता है कि जिस घर में क्लेश, दरिद्रता तथा अशांति रहती है वहां लक्ष्मी का वास नहीं रहता है। जब घर में विपत्ति आने वाली होती है तो इस प्रकार के अवगुण घर में धीरे धीरे आने लगते हैं। इस कारण से लक्ष्मी घर से चली जाती है। ज्योतिष का मानना है की तुलसी का पौधा बुद्ध ग्रह के बिगड़ने के कारण सूखता है। बुद्ध ग्रह का रंग हरा माना जाता है तथा यह पेड़ पौधों का कारक माना जाता है। यह एक ऐसा ग्रह माना जाता है जो अन्य ग्रह के अच्छे तथा बुरे प्रभाव को भी लोगों तक पहुंचाता है। तुलसी एक पौधे को देव तुल्य माना जाता है। आयुर्वेद में तुलसी के बहुत गुण बताये जाते हैं। तुलसी न सिर्फ आपके स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होती है बल्कि यह घर के वास्तु के लिए भी लाभदायक होती है। तुलसी के पौधे को उत्तर-पश्चिम (वायव्य कोण) या दक्षिण-पूर्व (अग्नेय कोण) में रखना बहुत शुभ माना जाता है। प्रतिदिन तुलसी के पौधे की पूजा करने से भी आपके घर के छोटे मोटे वास्तु दोष ख़त्म हो जाते हैं।