+

12 साल की छात्रा ने बनाया ऐसा मॉडल, जिससे ‘ड्रिंक एंड ड्राइव’ पर लगेगी लगाम

शराब पीकर गाड़ी चलाने से अक्सर दुर्घटना की खबर सामने आती रहती हैं। लेकिन फिर भी लोग शराब पीकर गाड़ी चलाना नहीं छोड़ते। सरकार की अनेक नाकाम कोशिश करने से भी कोई फर्क नहीं पड़ा। ऐसे में लोगों की शराब पीकर गाड़ी चलाने की आदत पर काबू पाने के लिए हिमांचल की 12 साल की रुपाली ने एक मॉडल तैयार किया है। यह मॉडल है श्वास परीक्षक यंत्र मॉडल।

दरअसल रावमापा तलाई (बिलासपुर, हिमाचल प्रदेश) में एक राज्य स्तरीय विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन हुआ। इस प्रदर्शनी में 100 मॉडल पेश हुए, जिनमें रुपाली के मॉडल को खासी सराहना मिली। कुल्लू के शनोवर वैली पब्लिक स्कूल बजौरा में पढ़ रही सातवीं की छात्रा रूपाली ठाकुर दावा करती है कि यदि इसे किसी गाड़ी में आजमाया जाए, तो यह लोगों केड्रिंक एंड ड्राइवके शौक को रोक देगा।

प्रतीकात्मक

ड्रिंक एंड ड्राइव पर पुलिस के पास पहुंचेगी लोकेशन

रुपाली द्वारा तैयार किए गए इस मॉडल में एल्कोमीटर, स्मोकेलाइजर, जीपीएस और जीएसएम की आधुनिक तकनीक की मदद ली गई है। यह मॉडल कुछ ऐसा है कि यदि कोई शराब पीकर ड्राइविंग सीट पर बैठता है, तो श्वास परीक्षक यंत्र गाड़ी को तुरंत बंद कर देगा। यही नहीं इस यंत्र से शराब के सेवन की पुष्टि होते ही गाड़ी की लोकेशन एसएमएस के जरिए ड्राइवर के परिजनों और पुलिस के पास पहुंच जाएगी।

शराब पीकर गाड़ी चलाना है अपराध : रुपाली

वहीँ रुपाली का कहना है कि शराब पीकर गाड़ी चलाना अपराध है, लेकिन फिर भी यह रुकने का नाम नहीं ले रहा। लेकिन श्वास परीक्षक यंत्र को गाड़ी में लगाने से इस अपराध को रोका जा सकता है। इसी मकसद से इसे बनाने में अनेक आधुनिक उपकरणों की सहायता ली गयी है।