+

गूगल की सलाह मानें, एंड्रायड फोन की बैटरी बचाएं

क्या आप भी एंड्रायड फोन की जल्द खत्म होने वाली बैटरी से परेशान हैं? यदि हां, तो इसके विकल्प में पावर बैंक खरीदने से पहले थोड़ी सलाह गूगल की भी मान लें। गूगल ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि किस प्रकार आपका फोन बैटरी की खपत करता है और इससे निपटने के लिए आपको कौन—कौन से कदम उठाने चाहिए।

स्मार्टफोन में ही कई सुविधाएं हैं जिनकी समझदारी से इस्तेमाल कर बैटरी की लाइफ भी बचाई जा सकती है। हालंकि जैसे-जैसे स्मार्टफोन में एडवांस स्पेसिफिकेशन बेहतर होते जा रहे हैं लोगो की चिंता इसकी बैटरी लाइफ को लेकर भी बढ़ने लगी है। कई बार आपने महसूस किया होगा कि स्मार्टफोन का डिस्प्ले भी बैटरी की ज्यादा खपत का एक कारण है, जबकि हल्की थीम से बैटरी देर तक बनी रहती है। इस कारण ही बैटरी बचाने के लिए डार्क मोड लोकप्रिय हो रहा है। इसके अतिरिक्त गूगल ने कई वर्षों तक अपनी मटेरियल थीम में सफेद रंग का महत्व दिया है।

इसके अतिरिक्त गूगल ने जो रिपोर्ट जारी की है वह बैटरी खपत कम करने में काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकती है। गूगल भी इस बात की पुष्टि की है कि एंड्रायड फोन्स को डार्क मोड में रखने पर कम ऊर्जा खर्च होती है और बैटरी लाइफ बचती है।

सैनफ्रांस्किो में आयोजित एक एंड्रायड डेव समिट में गूगल के स्लैग गीयर की रिपोर्ट में आखिरकार पुष्टि कर दी है कि एंड्रायड फोन्स को डार्क मोड में रखने पर कम ऊर्जा खर्च होती है और बैटरी लाइफ बचती है। उन्होंने डेवलपरों को बताया कि वे बैटरी की अधिक खपत रोकने के लिए अपने एप्स में क्या कर सकते हैं।

रिपोर्ट के अनुसार बैटरी की खपत करनेवाला सबसे बड़ा कारक स्क्रीन की ब्राइटनेस है। साथ में स्क्रीन का कलर भी बैटरी की खपत को बढ़ाता है। जब स्क्रीन को डार्क मोड किया जाता है तो ऑपरेटिंग सिस्टम (ओएस) या एप्लिकेशनों के कलर को बदल कर ब्लैक कर देता है।

समिट में इसक प्रदर्शन इंटरनेट दिग्गज ने किया तो पाया कि किस प्रकार से डार्क मोड फुल ब्राइटनेस स्तर पर ‘सामान्य मोड’ की तुलना में 43 फीसदी कम बैटरी की खपत करता है, जबकि पारंपरिक रूप से बहुत ज्यादा व्हाइट का इस्तेमाल किया जा रहा है।

इस संदर्भ में अहम बात यह भी सामने आई कि प्रौद्योगिकी दिग्गज ने भी अपनी गलती मानी। उन्होंने स्वीकार किया कि उनके द्वारा   एप डेवलपरों को अपने एप्लिकेशनों के लिए व्हाइट कलर का इस्तेमाल करन गलत था। इस भूल को खुद गूगल ने भी की।