+

5जी की छलांग, जुड़ जाएगा मशीन से मशीन

कल्पना करें सुदूर गांव में बैठे किसी मरीज को शहर में बैठा डाक्टर इलाज कर दे। संभव हो तो वह उसकी सर्जरी तक हो जाए। अभी तक तो वीडिया कालिंग सुविधा से मरीज की मानिटरिंग संभव है, लेकिन उसके संपूर्ण उपचार किए जाने की सुविधा की कल्पना हकीकत में बदलने वाली है। ऐसा ही कुछ ई-कामर्स की दुनिया में भी होने वाला है। कोई महिला मनपसंद आनलाइन कपड़े खरीदने से पहले पहन कर भी देख सकती है। यह सब 5जी तकनीक के इंटरनेट से संभव होने वाला हैजिसमें मशीन से मशीन के जुड़ने की क्षमता है।

भारत अकेला ऐसा देश बनने वाला हैजहां जल्द से जल्द इस सर्विस को लांच कर दिया जाएगा। वैसे चीन, अमेरिका, कोरिया और जापान इस सर्विस पर काम कर रहे हैं। यह बात 25 अक्टूबर से 27 अक्टूबर तक इंडिया मोबाइल कांग्रेस में सामने आई।

क्या है 5जी

5जी सेल्युलर मोबाइल कम्युनिकेशन की पांचवी जनरेशन है। इसमें अल्ट्रा फास्ट हाई कनेक्विटी की सुविधा है। यह 4जी, 3जी, 2जी और 1जी सिस्टम का अगला वर्जन है। 5जी के जरिए हाई डाटा रेट और लेटेंसी रेट को कम किया जा सकता है। तकनीक की भाषा में लेटेंसी से डेटा ट्रसंफर में लगने वाले समय का पता लगता है। इसके काफी कम होने से टच या क्लिक के बाद डाटा डाउनलोड और रिक्वेस्ट भेजने में कम समय लगता है। इससे एनर्जी सेविंग, लागत में कमी, सिस्टम की क्षमता में वृद्धि और बड़े पैमाने पर डिवाइसों को एक-दूसरे के साथ जोड़ा जा सकता है।

अब अगर पहली 3 सर्विस पर नजर डालें तो पाएंगे कि उनका मकसद सिर्फ मनुष्य से मनुष्य तक को जोड़ना ही था। इनमें 1जी, 2जी और3जी सेवाएं शामिल हैं।

1जी सर्विस जहां आवाज के लिए थी तो 2जी सर्विस में आवाज के साथ एसएमएस यानि संदेश की सर्विस को भी जोड़ दिया गया था। इसके बाद आई 3जी सर्विस में एमएमएस यानि संदेश के तौर पर पिक्चर और वीडियो के जुड़ने का भी फायदा मिला। हालांकि इन सभी सर्विस का इस्तेमाल किसी एक इंसान से दूसरे इंसान को ही मिला।

इसके बाद आई 4जी सर्विस में हमें वीडियो की भी सुविधा मिली और अब यह सर्विस मनुष्य से मशीन तक हो गई। हालांकि अब इसकी अगली सर्विस यानी 5जी की जो बात हो रही है, जिसमें मशीन टू मशीन से वीडियो एमएमएस और एसएमएस की दोतरफा सुविधाओं का लाभ मिलेगा।

5जी की स्पीड

इस सर्विस की खासियत इसकी स्पीड है, जो 20गीगाबाइट प्रति सेकेंड की होगी। मोबाइल पर टच करते ही एक मिलीसेकंड से भी कम समय में वेबपेज खुल जाएगा। इसके जरिए पूरी फिल्म को 5जी नेटवर्क पर 3 से 4 सेकंड में डाउनलोड की जा सकती है। इससे आटोमेशन,आग्मेंटेड रियलिटी, वर्चुअल रियलिटी, मशीन लर्निंग, आईओटी(इंटरनेट आफ थिंग्स) और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की सुविधाएं ली जा सकतीं है।

कनेक्टिविटी के फायदे

इसे माध्यम से एक ऐसे इकोसिस्टम का निर्माण किया जा सकता है, जो सभी डिवाइसों को एक-दूसरे से कनेक्ट कर देगा। इसका फायदा हर सेक्टर को मिलेगा। शिक्षा, कृषि, सुरक्षा, परिवहन, स्वास्थ्य समेत सभी सेक्टरों को इससे लाभ मिलेगा। ग्रामीण इलाकों को भी आसानी से शहरों को जोड़कर सभी तरह की सर्विस को आसानी से गावों तक पहुंचाना संभव होगा।

प्रस्तुति: दिनचर्या डेस्क(डीडी)