+

कैसे करें खतरनाक बीमारी(कैंसर) से बचाव

 

 इस वर्ष चिकित्सा क्षेत्र में नोबल पुरस्कार जितने वाले लोगों ने उम्मीद की है की चिकित्सा क्षेत्र जल्द ही कैंसर के इलाज में प्रगति करेगा हालांकि आकांक्षाएं यह भी हैं कि कैंसर का दुनियां से कभी उन्मूलन नहीं हो सकेगा। इस बारे में जापान के त्सुकु होन्जो तथा यूनाइटेड स्टेट के जेम्स एलिसन ने अपने विचार एक सम्मलेन में व्यक्त किये। आपको बता दें कि इन दोनों लोगों को नोबल पुरस्कार मिल चुका है। इन लोगों को अक्टूबर माह में इम्यूनोथेरेपी पर कार्य करने के लिए नोबल पुरस्कार दिया गया है। बता दे की इम्यूनोथेरेपी एक ऐसी तकनीक है जो ट्यूमर से लड़ने के लिए शरीर में नेचुरल एनर्जी को एक्टिवेट करती है। सम्मलेन में अपने विचार रखते हुए एलिसन ने कहा कि "हम जल्दी ही मेलेनोमा समेत कई अन्य प्रकार के कैंसर की चिकित्सा पद्दति में काफी प्रगति कर लेंगें। उन्होंने आकांशा भी व्यक्त करते हुए कहा की "शायद दुनियां के कैंसर मुक्त होने की हमारी कल्पना कभी संभव नहीं होगी।"

 इस प्रकार बच सकते हैं कैंसर से 

 एलिसन के बयान पर कई विशेषज्ञों ने अपनी राय दी है। विशेषज्ञों का कहना है कि यदि हम अपनी जीवनशैली में थोड़ा सा परिवर्तन कर लें तो हम कई प्रकार के कैंसर से बच सकते हैं। इसके लिए व्यायाम करें, अच्छा भोजन खाएं तथा धूम्रपान न करें। एलिसन के साथ नपबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले होन्जो ने यह कहा कि इम्यूनोथेरेपी को कीमोथेरेपी, रेडिएशन के साथ कैंसर के खिलाफ इलाज करने में उपयोग किया जा सकता है। उनका कहना है की इस थेरेपीके इलाज से किसी ट्यूमर को निकाले बिना उसकी गति को प्रभावशाली ढंग से रोका जा सकता है। एलिसन का कहना है कि कैंसर के इलाज के लिए इम्यूनोथेरेपी अभी एक नई पद्दति है अतः इसकी चिकित्सा अभी महंगी है लेकिन उन्होंने उम्मीद जताई कि भविष्य में यह इतनी महंगी नहीं रहेगी। कैंसर विशेषज्ञों का मानना है कि कैंसर चार प्रकार से होता है। जिसको उन्होंने वंशागत, गलत भोजन करने से, घुम्रपान तथा इंफेक्शन के चार भागों में बांटा है। इन लोगों का कहना है की हम अपने लाइफस्टाइल में बदलाव करके कैंसर से आसानी से बच सकते हैं।