+

मूली से जायदा इसके पत्ते हैं अधिक लाभदायक

जब आप सब्जी लेने, सब्जी मंडी जाते हैं, तो सलाद के तौर पर मूली भी ले आते हैं। फिर घर पर खाने के साथ मूली को सलाद के तौर पर काटते हैं और उसके पत्ते फेंक देते हैं। माना सलाद खाना स्वास्थ्य के लिए अच्छा है, लेकिन इसके चलते आप अंजाने में बहुत उपयोगी और रोगनाशक चीज फेंक देते हैं। ये चीज है 'मूली के पत्ते' जी हां स्वस्थ शरीर के लिए मूली के पत्ते, मूली से कई गुना अधिक लाभदायक होते हैं। कुछ लोग इसे हरी सब्जी के तौर पर भी खाते हैं। 

आइये बात करते हैं मूली के पत्ते के गुणों के बारे में

• मूली के पत्तों में लोहे और फास्फोरस जैसे खनिज मौजूद होते हैं। जो थकान दूर करने में मददगार होते हैं। साथ ही इसमें विटामिन सी, विटामिन ए और थियामिन भी पाए जाते हैं। इसके सेवन से शरीर में प्रतिरोधक क्षमता की वृद्धि होती है। 

• एनीमिया और कम हीमोग्लोबिन के स्तर वाले मरीजों के लिए मूली के पत्ते एक आदर्श आहार है। क्योंकि इन पत्तों में लोहा और कुछ अन्य खनिज पाए जाते हैं जो इस परेशानी को दूर करने में सहायक है। 

• मूली के पत्तों में अच्छी मात्रा में फाइबर पाया जाता है। इसलिए इसके सेवन से पाचन क्रिया से परेशान व्यक्ति की परेशानी दूर हो सकती है। इसके सेवन से कब्ज और फूले हुए पेट जैसी समस्याओं में भी मदद मिलती है। 

• मूली के पत्तों में खून को साफ़ करने का गुण होता है। इसमें पाए जाने वाले अनेक तत्व ब्लड प्यूरिफिकेशन के लिए सहायक हैं। जिससे अनेक प्रकार की होने वाली बीमारियों को रोका जा सकता है। 

• कई शोध कार्यों के बाद मूली के पत्ते को पीलिया रोग को ठीक करने में सक्षम माना गया है। पीलिया के दौरान 10 दिन तक रोज़ आधा लीटर मूली के पत्तों का रस पीने से पीलिया ठीक किया जा सकता है। 

• मूली के पत्ते गठिया रोग को दूर करने में भी मददगार हैं। मूली के पत्तों को पीसकर, उसमें उचित मात्रा में चीनी तथा पानी मिलाकर पेस्ट बनाइए। फिर इस पेस्ट को दर्द और सूजन वाली जगह पर लगाएं। इससे दर्द भी दूर होगा और सूजन से भी राहत मिलेगी।

स्वस्थ रहने के लिए स्वस्थ आहार जरूरी है। इसलिए अपनी दिनचर्या में स्वस्थ शुद्ध आहार जोड़ें और स्वस्थ रहें।