+

इस बेहतरीन औषधि के लाभ जानकर रह जायेंगे, हैरान

दुनियां में सभी लोग स्वस्थ रहना चाहते हैं। लेकिन कई लोग बीमार पड़ने पर दवाइयों का खर्च उठाने में असमर्थ होते हैं। ऐसे में यदि हम कहें कि एक ऐसी औषधि है, जो सस्ती होने के साथ-साथ बहुत गुणकारी भी है। तो क्या आप यकीन करेंगे? शायद नहीं। या फिर कर भी सकते हैं। लेकिन आज हम ऐसी ही बहुत लाभदायक औषधि के बारे में बताएंगे जो कम दाम में मिल जाती है और बहुत बड़े-बड़े रोगों को दूर करती है। इस औषधि का नाम है "गोंद" गोंद पलास, नीम और कई पौधों से मिल जाता है। लेकिन आमतौर पर बबूल के गोंद को ही 'गोंद' कहा जाता है। अलग-अलग पेड़ो से मिलने पर इसके गुण भी अलग होते हैं। पलास के गोंद को 'कमरकश' भी कहते हैं। गोंद खांसी, सरदर्द और कमरदर्द जैसी छोटी बीमारियों से लेकर अनेक बड़े रोगों को दूर कर देता है। आइये जानते हैं एक औषधि के तौर पर गोंद के फायदे...

गोंद के सेवन से लाभ

1. नीम के गोंद के सेवन से कील मुहासे और त्वचा रोग जैसी परेशानियां ठीक होती हैं। इसका उपयोग खून की सफाई करने के लिए भी होता है, जिससे शरीर में खून का संचार अच्छे से होता है। 

2. पलास के गोंद के इस्तेमाल से जख्म ठीक होते हैं तथा दस्त में भी राहत मिलती है। इसके अलावा पलास के गोंद से मर्दाना कमजोरी और वीर्य विकार जैसी परेशानियां भी दूर होती हैं। 

3. कमर दर्द में बबूल के गोंद के सेवन से दर्द दूर होता है और सिरदर्द में इसे सिर पर लगाने से भी दर्द से आराम मिलता है। इसके अलावा डायबिटीज़ में बबूल के गोंद का चूर्ण पानी या गाय के दूध के साथ मिलाकर रोज़ाना पीने से फायदा होता है। 

4. बबूल का गोंद स्त्री व पुरुष दोनों की कमजोरी दूर करने में भी मदद करता है। गोंद को घी में तलकर खाने से पुरुषों की ताकत बढ़ती है और प्रसूत काल में स्त्रियों को खिलाने पर उनकी शक्ति भी बढ़ती है। 

5. सर्दियों में बबूल के गोंद को चूसने पर खांसी भी ठीक होती है। वैवाहिक जीवन में गोंद को घी में भूनकर सेवन करने से वैवाहिक जीवन में परम आनंद मिलता है।

6. मासिक धर्म के विकार के लिए भुने हुए गोंद का चूर्ण मिश्री के साथ मिलाकर सेवन करने से मासिक धर्म की पीड़ा ठीक होती है। इसके सेवन से मासिक धर्म भी समय पर आने लगता है।