+

मुंह के छालों का रामवाण इलाज

अक्सर देखा जाता है कि कई सारे लोग अपने मुँह के छालों को लेकर परेशान रहते हैं। मुँह में छालों के होने से थोड़ा भी नमक या मिर्च नहीं खाई जाती और कुछ के तो पानी पीने पर भी जलन होने लगती है। इसका कारण हमारी बड़ी आंत का साफ़ ना होना है। कहते हैं हमारा मुँह, हमारी बड़ी आंत का आईना होता है। इसलिए आंत साफ़ होने पर मुँह भी ठीक रहता है और आंत साफ़ ना होने पर मुँह में भी छाले हो जाते हैं। अक्सर देखा जाता है कि कई सारे लोग तला हुआ या बहुत मसालेदार खाना पसंद करते हैं। ये सब खाने से पेट ख़राब होना आम बात है। गरम चीजें खाने से भी यह परेशानी हो सकती है। आमतौर पर छालों से परेशान व्यक्ति के कई तरह की दवाइयां खाने के बाद भी छाले ठीक नहीं होते। ऐसे में घरेलू नुस्खे काम आते हैं। तो आइए जानते हैं मुँह के छाले ठीक करने के घरेलू तरीके...

कत्था लगाकर:-  कत्थे का पेस्ट छालों वाली जगह पर लगाकर कुछ देर तक मुँह से गन्दा पानी निकलने दें। फिर पानी से कुल्ला कर लें। इसी तरह दिन में दो बार करने से छालों से राहत मिलेगी। 

गेंदे के पत्ता चबाकर:-  गेंदे के फूल के पत्ते को मुँह में रखकर हल्का चबाते रहें, चबाने के बाद उसे मुँह में चारों ओर घुमाएं और छाले वाली जगह पर लगाएं। थोड़ी देर बाद उसे थूककर पानी से कुल्ला कर लें। यह भी छालों ठीक करने की अच्छी आयुर्वेदिक औषधि है। 

घी से इलाज:-  हल्के गुनगुने घी से कुल्ला  कर के उसे पी लें। सोते समय घी को छाले वाली जगह पर लगाकर सोएं। इससे भी आंत साफ़ रहती है और छालों से आराम मिलता है। 

तुलसी के पत्ते चबाकर:-  तुलसी के पत्ते में एंटीबैक्टीरियल गुण होता है। 5-6 तुसली की पत्तियों को चबा लें। इससे छालों में मौजूद बैक्टीरिया नष्ट होते हैं। और छालों से राहत मिलती है। 

रोज़ाना पानी पीने से:-  छालों की बीमारी दूर करने का सबसे अच्छा इलाज है पानी। अगर आप छालों से बहुत परेशान हो तो रोज़ाना खूब पानी पीने की आदत डालें। पानी पीने से पेट साफ़ रहता है और पेट में गर्मी नहीं होती। इससे मुँह में कभी छाले नहीं होंगे और पेट से सम्बंधित बीमारियां दूर होंगी। 

 इसके अलावा बाहर के खाने से भी हमें बचना चाहिए। बाहर का मसालेदार और तला हुआ खाना खाने से हम बहुत सी बीमारियों को दावत दे देते हैं। मुँह में छाले होने का भी यह एक प्रमुख कारण है। घर पर भी हमें गरम चीजों का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए। ज्यादातर बीमारियां गलत खाना खाने से ही होती हैं, इसलिए खाने पर नियंत्रण करें और स्वस्थ रहें।