+

स्वस्थ शरीर के लिए बहुत जरूरी है, रक्त का शुद्ध होना।

दोस्तों अपनी ज़िंदगी में सभी आगे बढ़ने में व्यस्त हैं, सभी अपनी अपनी ज़िंदगी में भाग दौड़ कर रहें हैं। लेकिन इस भागदौड़ से भरी ज़िन्दगी में अपने शरीर का खयाल रखना भी बेहद जरूरी है। इसलिए हम हमेशा की तरह आज भी आपके स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी आपको बता रहे हैं। तो जानिए आप कैसे इस भाग दौड़ के साथ स्वस्थ रह सकते हैं। 

    दोस्तों खून के बिना हम शरीर की कल्पना भी नहीं कर सकते। जिस तरह बिना पेट्रोल के गाड़ी किसी काम की नहीं है, ठीक उसी तरह बिना खून के शरीर भी किसी काम का नहीं रहता और जितना जरूरी शरीर में खून का होना है उतना ही खून का साफ़ होना भी जरूरी है। लेकिन हमारे खान-पान, हमारी नित्य क्रियाओं और हमारी आदतों की वजह से हमारा खून साफ़ नहीं रह पाता। जिससे हमारे शरीर में विकार पैदा होने लगते हैं। लगातार बीमार रहना, भूख न लगना, आँख की रौशनी कमजोर होना, बाल झड़ना, त्वचा रोग का होना, दाद-खाज होना, रोग प्रतिरोधक क्षमता का कम होना, डायबिटीज और तनाव जैसी अनेक बीमारियां खून के साफ़ न होने के कारण ही होती हैं। खून के साफ़ न होने के कारण खून गाढ़ा हो जाता है। जिससे आप दिल के मरीज भी बन सकते हैं और आपकी  ज़िंदगी खतरे में पड़ सकती है। इसलिए आपको अपने खून को साफ़ रखने के लिए अपनी आदतों में कुछ बदलाव करना होगा। कुछ नुस्खे हैं जो आपके खून को साफ़ रखने में मददगार हैं। तो जानते हैं क्या हैं वो नुस्खे….

 पानी: प्रत्येक दिन आप ज्यादा से ज्यादा पानी पीकर अपने खून को आसानी से साफ़ रख सकते हैं। ज्यादा पानी पीकर हमारे खून तथा शरीर की गन्दगी मूत्र के रूप में बाहर आ जाती है। इसलिए सबसे आसान और सबसे रामबाण इलाज़ पानी है। 

आँवला: आंवला 'विटामिन सी' का भंडार है। यह शरीर में उपस्थित विषैले पदार्थ बाहर निकाल देता है। इसलिए रोज दो आंवले खाने से आप अपने खून को सरलता पूर्वक साफ़ रख सकते हैं। 

नींबू पानी: रोज़ाना सुबह उठकर हल्के गुनगुने पानी में नींबू का रस डालकर पीने से आप अपने खून को शुद्ध कर सकते हैं। इसमें भी ‘विटामिन सी’ प्रचुर मात्रा में होता है इसलिए ये शरीर के विषैले पदार्थों को बाहर निकलने में सहायक है। 

सौंफ: रोज सुबह सौंफ और मिश्री के पाउडर को पानी के साथ मिलाकर पीने से भी खून शुद्ध होता है। इसे आप रात को पानी में भीगा के रखकर सुबह खा सकते हैं। इसे पीने से आँखों की रौशनी भी तेज़ होती है। 

फूलगोभी: गोभी में गंधक की मात्रा अधिक होती है और गंधक दाद-खाज, चर्म रोग और कुष्ठ आदि को ठीक करने में लाभदायक होता है। इसे उबालकर खाने से खून भी साफ़ होता है। 

प्याज और शहद: प्याज और शहद का रस 10 दिन तक रोज़ाना पीने से खून साफ़ होता है। 

करेले का रस: करेले का जूस पीने से शरीर का दूषित रक्त शुद्ध हो जाता है। इसलिए करेले का रस पीना स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। 

नीम का रस: नीम का रस भी रक्त को शुद्ध करने में बहुत लाभदायक है। यह चर्म से जुड़ी अनेक बीमारियों का भी इलाज है। 

 ये कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे हैं जिन्हे आप अपनी आदतों में जोड़कर आसानी से अपने शरीर के दूषित रक्त को शुद्ध कर सकते हैं। इसलिए आप थोड़ा सा अपनी आदतों को बदलें। जिससे आप स्वस्थ रहेंगे।