+

अब गुटखा खाकर थुकना पड़ेगा महँगा, सफाई के साथ -साथ भरना होगा 150 रुपये का जुर्माना।

बात 22 अगस्त की है। मुंबई में बोरीवली रेलवे स्टेशन पर रात 10ः30 बजे एक महिला पर किसी ने गुटखा खाकर थूक दिया। घटना के बाद महिला यात्री ने मुंबई पुलिस कमिश्नर और रेलवे अधिकारियों को फोटो के साथ ट्वीट कर शिकायत की। ट्वीट के बाद पुलिस हरकत में आई। बावजूद इसके जीआरपी और आरपीएफ उक्त आरोपी को तो नहीं पकड़ पाई है, लेकिन दोबारा किसी यात्री के साथ ऐसी कोई घटना नहीं हो इसलिए धरपकड़ की गई। पूरे दिन स्टेशन या लोकल में पान और गुटखा खाकर थूकने वाले कई यात्रियों को पकड़ा गया और जुर्माना वसूला गया। उसके बाद बात आई-गई हो गई।

अब इस सिलसिले की गई एक अनोखी पहल पुणे है। गुटका या पान—खैनी थूकने वालों पर लगाम लगाने के साथ-साथ उन्हें तमीज सिखाने के लिए पुणे के प्रशासन ने नया तरीका निकाला है। ऐसा करने वाले को सजा के तौर पर न केवल 150 रुपये का जुर्माना भरना होगा, बल्कि उन्हें गंदा किए गए जगह की घिस-घिसकर सफाई भी करनी होगी।

सड़कों पर थूकने वालों को सबक सिखाने और शहर की सड़कों को साफ रखने के लिए पुणे निगर निकाय ने यह फैसला किया है। यदि कोई सड़क पर थूकता हुआ दिखेगा, तो उसे अपनी थूक खुद साफ करनी पड़ेगी और जुर्माना भी देना होगा। पुणे महानगरपालिका के ठोस कचरा प्रबंधन विभाग के प्रमुख ज्ञानेश्वर मोलक के अनुसार प्राधिकार को लगा कि थूकने वालों पर लगाम लगाने के लिए सिर्फ आर्थिक जुर्माना काफी नहीं है।

उन्होंने बताया, ‘‘यह कदम पिछले सप्ताह पांच वार्ड,  बिबवेवाडी, औंध, येरवड़ा, कस्बा और घोले रोड में लागू किया गया। उन्होंने कहा, ‘‘पिछले आठ दिनों में निकाय के स्वच्छता निरीक्षकों ने सड़क पर थूकते हुए 156 लोगों को पकड़ा। उन सभी को तुरंत अपना थूक साफ करने को कहा गया और प्रत्येक पर 150 रुपये का जुर्माना लगाया गया। ’’

इस पर मोलिक का कहना है कि इस सजा के पीछे एक ही वजह है कि गलती करने वालों को थूक साफ करने को कहने पर उन्हें शर्म आएगी और अगली बार से वह ऐसी गलती नहीं करेंगे। एक बार सजा मिलने के बाद सड़क पर थूकने से पहले दो बार सोचेंगे।

बिबवेवाडी के वार्ड अधिकारी अविनाश साकपाल के नेतृत्व में इस अभियान को शुरू किया गया है, जिसका उद्देश्य लोगों को स्वच्छता के बारे में जागरूक करना और लोगों को इसके प्रति अनुशासित करना है। सकपाल के अनुसार अभियान के पहले दिन ही अधिकारियों ने सार्वजनिक स्थान पर थूकने वाले 25 लोगों को दंडित किया। पूणे में इस अभियान को सफल बनाने के लिए 41 अधिकारी प्रतिदिन सड़कों पर नजर रखे हुए हैं।

तो फिर यह तो तय हो गया कि कहीं भी थूकने वालों को अपनी आदत बदलनी होगी। सामान्य सजा के तौर पर सार्वजनिक स्थान पर थूकने का जुर्माना 100 रुपये है, लेकिन अगर दिल्ली में मेट्रो परिसर, प्लेटफाॅर्म या फिर मेट्रो में थूक दिया, तो 200 रुपये का जुर्माना लग सकता है।