+

हरमनप्रीत के शतक से भारत की मजबूत बनती दावेदारी

वेस्ट इंडीज़ के गुयाना में 9 नवंबर से शुरू हुए आईसीसी महिला वर्ल्ड टी-20 टूर्नामेंट के पहले मैच में ही भारत अपनी मजबती का प्रदर्शन कर दिखा दिया है कि उसमें कितना दम है। भारत ने न केवल न्यूज़ीलैंड को 34 रनों से हरायाबल्कि इस मैच में भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर ने एक शतक लगाकर इतिहास रच दिया।

हरमनप्रीत ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए न्यूज़ीलैंड को 195 रनों का लक्ष्य दिया था। वह तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने आई थीं और उन्होंने 51 बॉल पर आठ छक्के लगाकर 103 रन बनाए। इस तरह किसी भी महिला टी—20 में शतक जड़ने वाली भारत की पहली और दुनिया की नौंवे नंबर की बल्लेबाज बन गईं।

हरमनप्रीत कौर ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी का फ़ैसला किया था। हालांकि भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही और दूसरे ओवर की पहली गेंद पर ही तानिया भाटिया नौ रन बनाकर ली ताहूहू की गेंद पर क्लीन बोल्ड हो गईं।

पहले नंबर पर बल्लेबाज़ी करने आईं जेमीमा रोड्रिग्ज़ ने 59 रन बनाए। जेमीमा और हरमनप्रीत ने चौथे विकेट के लिए 134 रनों की साझेदारी की। 19वें ओवर में रोड्रिग्ज़ को जेस वेट्किन ने कैच आउट कराया। वहीं, 20वें ओवर की पांचवीं गेंद पर हरमनप्रीत कौर को सोफी डिवाइन ने कैच आउट कराया। भारतीय टीम ने निर्धारित 20 ओवर में पांच विकेट के नुकसान पर 194 रन बनाए।

दूसरी तरफ 195 रनों का लक्ष्य पाने के लिए उतरी न्यूज़ीलैंड की शुरुआत ख़ासी अच्छी रही। उसकी सलामी बल्लेबाज़ सुज़ी बेट्स ने 67 रन बनाए। चौथे नंबर पर बल्लेबाज़ी करने आईं केटी मार्टिन (39) के अलावा कोई भी बल्लेबाज़ कुछ ख़ास कमाल नहीं दिखा पाया।

इस तरह से न्यूज़ीलैंड की टीम पूरे 20 ओवरों में नौ विकेट के नुकसान पर केवल 160 रन ही बना पाई।

भारतीय महिला क्रिेकेट की कप्तान हरमनप्रीत कौर पंजाब के मोंगा की रहने वाली हैं। उनका जन्म 8 मार्च 1989 को को हुआ था। वह क्रिकेट के अलावा फ़िल्में और म्यूजिक का भी शौक रखती हैं। दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे काफी पसंदीदा फिल्म हैजिसे वो कई बार देख चुकी हैं। कार चलाने की शौकीन हैं।

हरमनप्रीत ने अपना पहला वनडे 2009 में खेला था और 2013 में इंग्लैंड के विरुद्ध वर्ल्ड कप मैच में शतक जड़कर उन्होंने महिला क्रिकेट में अपनी मजबूत जगह बना ली थी। उनकी पहचान लीक से हटकर चलने वालों एक विस्फोटक बल्लेबाज़ के रूप में है। एक बार तो वह एक साथ तीन-तीन बिग बैश लीग की टीमें साइन करना चाहती थींलेकिन  उन्होंने सिडनी थंडर्स को चुना और  इसके साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन करने वाली वह पहली भारतीय (महिला या पुरुष) क्रिकेटर बन गईं। और तो और वह सरे स्टार्स से जुड़ने वाली भी पहली भारतीय बनीं।

साल 2016 में ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध खेलते हुए भारत ने टी-20 क्रिकेट में सबसे बड़ी जीत दर्ज की थी। हरमनप्रीत ने इस मैच में सबसे बड़ी भूमिका निभाते हुए 31 गेंदों पर 46 रन जड़े थे।

साल 2013 में हरमनप्रीत कौर भारतीय टीम की भी कप्तानी कर चुकी हैंजब बांग्लादेश के ख़िलाफ़ मिताली राज को आराम दिया गया था। उनकी प्रतिभा को देखते हुए साल 2016 में हरमनप्रीत कौर को मिताली राज की जगह भारतीय टी-20 टीम की बागडोर सौंप दी गई।