+

अयोध्या में हिन्दू और मुस्लिम पक्षकारों ने आपसी मतभेद भुलाकर खेली होली

अयोध्या वो स्थान है, जहां भगवान श्री राम का जन्म हुआ था। लेकिन आजकल अयोध्या राम जन्मभूमि से ज्यादा राम मंदिर विवाद को लेकर चर्चा में रहता है। कई सालों से कोर्ट में चल रहे इस विवाद को अंततः कोर्ट ने आपसी समझौते से सुलझाने का आदेश दिया है। साथ ही चारों पक्षों को आठ हफ्तों में अंतिम निर्णय लेने के लिए भी कहा गया है। इसके बाद से चारों पक्षों के बीच गहमा-गहमी शुरू हो गई है।

प्रतीकात्मक

इसी बीच होली के मौके पर अयोध्या का नजारा सौहार्द और प्रेम से भरा हुआ दिखा। होली के इस रंग ने इन पक्षों के आपसी भेद-भाव पर गुलाल का रंग चढ़ा दिया। इस दौरान मंदिर और मस्जिद के पक्षकारों ने सबकुछ भूलकर एक-दूसरे को गले लगाया और एक नई मिसाल पेश की।

प्रतीकात्मक

बुधवार को होली के अवसर पर बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी और समाजसेवी बबलू खान ने राम मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास, राम मंदिर के पक्षकार धर्मदास राम मंदिर के लिए संघर्ष कर रहे महंत समेत कई साधु संतों के साथ मिलकर होली खेली। इस दौरान सभी ने आपस में मिलकर गाने गाये, एक-दूसरे को गले लगाकर बधाइयां दीं। दोनों पक्षों ने इस दौरान खूब मस्ती भी की। पहली बार दोनों पक्षों के बीच इतना मेलजोल दिखा।