+

मथुरा के बरसाना में शुरू हुई लट्ठमार होली, देश विदेश से जुट रहे हैं लोग

उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले की विश्वप्रसिद्ध लट्ठमार होली का आयोजन 15 मार्च को शुरू हो गया है। इस होली में भाग लेने के लिए देश विदेश से लोग आते हैं। अतः लोगों को किसी प्रकार की समस्या न हो इसलिए भारी वाहनों का प्रवेश कस्वे में प्रतिबंधित कर दिया गया है। 

प्रतीकात्मक

 

आपको बता दें कि ब्रज में होली का त्योहार डेढ़ माह से ही अधिक समय तक मनाया जाता है। यहां पर बहुत से तीर्थस्थल हैं ओर प्रत्येक तीर्थ स्थल में होली मनाने की परंपरा भी अलग अलग है। इन सबके बीच नंदगांव तथा बरसाना की होली सभी से अलग है। इस बार की लट्ठमार होली की तैयारी के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज ने बताया कि "बरसाना के मेला परिसर को तीन जोन और 13 सेक्टरों में विभाजित कर चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात किया गया। मेले में 12 पार्किंग स्थल और 24 बैरियर लगाए गए हैं. अधिकाधिक भीड़ वाले इलाकों में सीसीटीवी नेटवर्क स्थापित करने के अलावा पूरे इलाके में ड्रोन कैमरों से निगरानी की जाएगी।"

प्रतीकात्मक

 

आपको बता दें कि फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की नवमीके दिन से लट्ठमार होली मनाई जाती है। इस दिन नंदगांव से लड़के बरसाना जाकर होली खेलते हैं। इस होली को बिना किसी को हानि पहुचायें खेला जाता है ओर इस होली को देखने के लिए देश विदेश से बड़ी संख्या में लोग मथुरा पहुंचते हैं। माना जाता है कि श्रीकृष्ण होली के दिन बरसाना में पहुंच जाते थे। वहां वे अपने साथियों के साथ राधा ओर उनकी सहेलियों के साथ ठिठोली किया करते थे। इस बजह से राधा ओर उनकी सहेलियां डंडे से श्रीकृष्ण तथा उनके मित्रों पर वार किया करती थीं ओर ये लोग ढाल से अपने सर की रक्षा किया करते थे। इस प्रकार से यही होली कालांतर में लट्ठमार होली बनी। इसी को देखने के लिए आज भी देश विदेश से हजारों लोग मथुरा में आते हैं।