+

ट्रेन में बहन को छेड़ रहे थे 6 लड़के, भाई ने किया ट्वीट और पहुंच गई पुलिस

भारत सरकार रेल यात्रा को सरल और सुगम बनाने की दिशा में हर वो संभव प्रयास कर रही है, जिससे यात्री को रेल यात्रा के दौरान किसी भी तरह की असुविधाजनक स्थिति का सामना न करना पड़े। लेकिन इसके बावजूद भी अगर किसी यात्री के सामने ऐसी कोई असुविधाजनक स्थिति पैदा हो जाती है, तो यात्री की ऐसी परेशानी को दूर करने की जिम्मेदारी भी प्रशासन की ही है। 

प्रतीकात्मक

 

ऐसा ही एक मामला सामने आया यूपी के आगरा में। दरअसल एक लड़की विशाखापट्टनम से दिल्ली जाने वाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस में दिल्ली जा रही थी। तभी उसकी बर्थ के पास करीब 5-6 लड़के आकर बैठ गए। इसके बाद वे सभी शराब पीने लगे और लड़की को छेड़ने लगे। इस पर लड़की ने अपने भाई से संपर्क साधा और किसी तरह शिकायत अपने भाई को बताई। लड़की का भाई उस वक्त रांची में था। इसलिए भाई ने ट्विटर पर इस घटना की जानकारी रेल मंत्री पीयूष गोयल, इंडियन रेलवे और एसपी जीआरपी को टैग करते शेयर कर दी।

प्रतीकात्मक

 

भाई के ट्वीट पर एसपी जीआरपी आगरा ने रिप्लाई किया और उनसे उनका मोबाइल नंबर माँगा। भाई द्वारा ट्वीटर पर की गई ये मदद की गुहार रंग लाई और महिला पैसेंजर को परेशान करना मनचलों पर भारी पड़ गया। इसके बाद तत्काल प्रभाव से उस गाड़ी की लोकेशन देखकर कार्रवाई के लिए आगरा कैंट के प्रभारी निरीक्षक विजय कुमार को बताया गया। प्रभारी निरीक्षक ने सूचना पाकर तुरंत मामले को गंभीरता से लिया और मौके पर पहुँचकर आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया।

यह घटना 12 मार्च 2019 की है। प्रशासन द्वारा यदि इस मामले को गंभीरता से न लिया जाता तो कोई अनचाही घटना भी घट सकती थी। इस तरह की परिस्थितियों में यात्रियों की मदद करना एक जिम्मेदार प्रशासन का कर्तव्य होता है। इस पर महिला और महिला के भाई ने प्रशासन का शुक्रिया भी किया।