+

अब नहीं बच पाएंगे अब दुश्मन सेना के टैंक, एटीजीएम मिसाइल का हुआ सफल परीक्षण

भारत और पाकिस्तान की सीमा पर पाकिस्तान से लगातार सीजफायर का उल्लंघन हो रहा है। लम्बे समय से एलओसी पर तनाव की स्थिति बनी हुई है। ऐसे में माहौल थोड़ा और बिगड़ा तो युद्ध की स्थिति बन सकती है। इसलिए भारत लगातार अपनी सेना की ताकत को बढ़ाने में लगा हुआ है। 

प्रतीकात्मक

 

भारत ने एक मैन पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (एमपी-एटीजीएम) का सफल परीक्षण किया है। रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) ने यह सफल परीक्षण 14 मार्च की शाम की देर रात को राजस्थान के मरूस्थल वाले इलाके में किया। एमपी-एटीजी मिसाइल का परीक्षण मुख्यतौर पर सेना के पैदल सैनिकों की ताकत बढ़ाने के लिए किया गया। इसकी रेंज 2-3 किलोमीटर तक है, जो कि 3 किलोमीटर के दायरे में आने वाले दुश्मनों के निशाने को भेदने में काफी मारक साबित होगी। 

प्रतीकात्मक

 

सेना के लिए यह इसलिए भी खास है क्योंकि इसे किसी भी स्थान पर फिट कर दागा जा सकता है। आसानी से ले जा सकने वाले इस मिसाइल को जरूरत के हिसाब से इस्तेमाल करके दुश्मन सेना के टैंक को भी ध्वस्त किया जा सकता है। 

डीआरडीओ इससे पहले भी एमपी-एटीजीएम मिसाइल का सफल परीक्षण कर चुकी है। इससे पहले 12 मार्च को भी डीआरडीओ ने राजस्थान के पोखरण रेंज से तीसरी बार मल्टी बैरल रॉकेट प्रणाली पिनाक का सफल परीक्षण किया था। बता दें कि भारतीय सेना दुनिया की चौथी सबसे ताकतवर सेना है। वहीँ सैनिकों की संख्या की दृष्टि से भारतीय थलसेना चीन के बाद दुनिया में सबसे बड़ी है।