+

शरीर पर कील ठोंकने से जेल में हुई दो युवकों की मौत, पांच पुलिसकर्मी निलंबित

बिहार के सीतामढ़ी में पुलिस की हिरासत में दो मुस्लिम युवकों की मौत का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि युवकों के शरीर पर कील ठोके जाने से उनकी मौत हुई है। पुलिस के मुताबिक यह हत्या नहीं है लेकिन युवकों के परिजनों द्वारा इसे हत्या बताकर एफआईआर दर्ज करवा दी गई है। 

प्रतीकात्मक

 

दरअसल गुफरान और तस्लीम को 6 मार्च को रमदीहा गांव से बाइक चोरी और अपने मकान मालिक की हत्या के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था। तस्लीम पर पहले से ही चार आपराधिक मामले दर्ज हैं, लेकिन गुफरान का इस तरह का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है। दोनों के परिजनों ने बताया कि जब वो 6 मार्च की शाम को दुमरा पुलिस स्टेशन पहुंचे तो गुफरान और तस्लीम वहां नहीं थे। पुलिस ने परिजनों को सदर अस्पताल भेजा। जहां उन्हें बताया गया कि दोनों की मौत हो चुकी है और उनका पोस्टमॉर्टम किया जा रहा है। 

प्रतीकात्मक

 

साथ ही परिजनों ने बताया कि जब शवों को दफनाने से पहले साफ किया जा रहा था, तो उन्होंने उनके शरीर पर चोट के निशान देखे। उन्होंने उसका वीडियो बना लिया। इसके बाद वीडियो और तस्वीरें पुलिस को दिखाई और हत्या का मामला दर्ज करवाया। मीडिया रिपोर्ट्स में मृतकों के शरीर पर कील ठोके जाने के निशान मिले हैं। 

बिहार पुलिस महानिदेशक ने कहा, ''इस मामले में थाना इंचार्ज समेत पांच पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। हत्या का मुक़दमा दर्ज हुआ है। पांचों पुलिसकर्मी फरार हैं और उनकी गिरफ्तारी के लिए एसआईटी भी बनाई गई है। पांचों को निलंबित कर दिया गया है।''