+

आइसक्रीम का लालच देकर किया 8 साल की बच्ची से दुष्कर्म, पीड़िता एम्स में भर्ती

8 साल की मासूम बच्ची अपने घर के बाहर खेल रही थी। इलाके में रहने वाले अखिलेश यादव (30) ने उसे आइसक्रीम का लालच दिया और उसे साथ ले गया। शाम की साढ़े चार बज चुकी थी। बच्ची भी ढाई घंटे से घर नहीं लौटी थी। घर वाले परेशान होने लगे तो सबने बच्ची को ढूंढना शुरू किया। बेटे ने बताया कि उसे अखिलेश ले गया था। पिता के साथ अन्य क्षेत्रवासी भी अखिलेश के घर पहुंचे। काफी देर तक दरवाजा नहीं खुला तो उन्होंने दरवाजा तोड़ दिया और देखा कि बच्ची को साथ ले जाने वाला दरिंदा अर्धनग्न खड़ा था। पिता को देख रसोई में सहमी बैठी बच्ची भी पिता से लिपटकर रोने लगी।

प्रतीकात्मक

 

गुस्साई भीड़ ने अखिलेश को जमकर पीटा और फिर पुलिस के हवाले कर दिया। घटना के बाद पीड़िता को एम्स में भर्ती करवाया गया। वहां गुरुवार को डॉक्टर्स ने उसका ऑपरेशन किया। बच्ची की हालत में सुधार है। घटना बुधवार को राजस्थान, जोधपुर के बासनी थाना क्षेत्र में हुई थी। दुष्कर्मी अखिलेश मूलरूप से यूपी के गाजीपुर का निवासी है। पुलिस ने बताया कि बदमाश इस बस्ती में पिछले 6 साल से रह रहा है। वह इंडस्ट्रीयल एरिया की स्टील फैक्ट्री में काम करता है। 5 दिनों से वह बीमारी के बहाने घर पर ही था। क्षेत्रवासियों ने पुलिस को बताया कि दुष्कर्मी की पत्नी कुछ दिन यहां रुकने आई थी, लेकिन 10 दिन पहले ही बेटे के साथ यूपी चली गई थी। 

प्रतीकात्मक

 

वहीँ अपनी 8 साल की मासूम बेटी से हुई ज्यादती से गुस्साई मां रोते हुए पुलिस से गुहार लगा रही है कि 'उस दरिंदे को तो जहर की सुई लगाओ, तड़पेगा तभी उसे दर्द का अहसास होगा।' पीड़िता की मां का कहना है कि वे शाम करीब 4 बजे सामान लेने बाजार गई थीं। एक बेटा घर में सो रहा था, दूसरा बेटा बाहर खेल रहा था। उसे किसी अनहोनी का जरा भी अहसास होता, तो वो कभी बेटी को अकेला छोड़कर नहीं जाती। पिता ने कहा कि शराबी दरिंदे ने मेरी मासूम बेटी के साथ घिनौनी हरकत करके उसे जीवनभर का दर्द दे दिया है। ऐसा कुकृत्य करने वाले को तो फांसी होनी चाहिए।