+

दबाव के कारण झुका पाक, प्रतिबंधित संगठनों के 100 से ज्यादा सदस्य डाले हिरासत में

आतंक को पनाह देने के लिए कुख्यात देश पाकिस्तान दुनियाभर से चौतरफा दबाव पड़ने के बाद आतंकी संगठनों पर एक बार फिर कार्यवाई करता दिखा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान सरकार ने गुरुवार को 182 धर्म स्कूलों को अपने नियंत्रण में ले लिया है। इसके साथ ही प्रतिबंधित संगठनों के करीब 100 सदस्यों को हिरासत में भी ले लिया है।

प्रतीकात्मक

 

लेकिन आतंकियों के खिलाफ वाले इस मामले पर भी पाकिस्तान ने फिर पुराना राग दोहराया है। इस कार्यवाई के बाद पाकिस्तान के आंतरिक मंत्रालय का बयान आया कि उनकी यह कार्रवाई भारत के दबाव में नहीं हुई, बल्कि यह एक लंबी योजना का हिस्सा है। 

इससे पहले पुलवामा में जवानों पर आतंकी हमले में 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए थे। हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी। इसके बाद भारत ने कूटनीतिक चाल से पाकिस्तान पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बनाया, जिसके बाद पाकिस्तान के आंतरिक मंत्रालय ने मदरसों का हवाला देते हुए कहा, 'प्रांतीय सरकारों ने 182 मदरसों के प्रशासन और प्रबंधन को अपने नियंत्रण में ले लिया है।' इसके साथ ही जैश के कई आतंकियों को पाकिस्तान में हिरासत में भी लिया गया था। 

प्रतीकात्मक

 

यूएन ने हाफिज सईद को दिया झटका

इसके अलावा 26/11 मुंबई आंतकी हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद पर यूनाइटेड नेशन (यूएन) ने बैन जारी रखा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यूएन ने हाफिज सईद पर बैन हटाने की मांग को ख़ारिज करते हुए कहा है कि हाफिज सईद पर बैन जारी रखने को लेकर उनके पास उचित और विश्वसनीय जानकारी है। जिसके तहत यह कदम उठाया गया है।

Posted by: Hardev Singh