+

9 साल पहले अपने ही रिश्तेदार ने देह व्यापार में धकेला, छापेमारी कर कराया मुक्त।

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में स्थित रेड लाइट एरियासे क्राइम ब्रांच छापेमारी के दौरान एक ऐसी महिला को मुक्त कराया है जिसको 12 साल पहले देह व्यापार के दलदल में जबरदस्ती धकेल दिया गया था। पूछताछ के दौरान महिला द्वारा बताई गयी अपनी दर्द भरी दास्तां को सुनकर पुलिस दंग रह गई । बुधवार को वाराणसी के शिवदासपुर रेड लाइट एरिया के एक घर में सुचना के आधार पर छापेमारी की गयी। छापेमारी के दौरान उस घर से 21 वर्षीय युवती के साथ-साथ तीन महिलाएं और दो पुरुषों को भी गिरफ्तार किया है। फ़िलहाल युवती को मेडिकल मुआयने के लिए भेजा दिया।

प्रतीकात्मक

 

शिकायत करता ने चंदौली जिले के धीना थाना क्षेत्र के एसएसपी को बताया कि नौ साल पहले घर के बाहर खेलते समय उसकी 12 वर्षीय बेटी गायब हो गई थी। उसी क्षेत्र के एक व्यक्ति ने बताया कि उसकी बेटी शिवदासपुर रेड लाइट एरिया में है और उससे देह व्यापार कराया जा रहा है।देह व्यापर से मुक्त होने के बाद युवती अपनी मां को देखकर उससे लिपट गयी और दहाड़े मार कर रोने लगी। युवती बार-बार यही कह रही थी कि अरे मां! मेरी जिंदगी बरबाद हो गई...। मां भी उसे सीने से चिपकाये बस रोती रही। यह देख  आसपास के सभी की आंखें भर आईं।पीड़ित की मां ने बताया कि 9 साल पहले उसकी बेटी गायब हो गयी थी, उन्होंने उसको खूब तलाश किया, लेकिन बेटी का कोई पता नहीं चला। क्षेत्र के एक व्यक्ति ने जानकारी दी तो भतीजे को रेड लाइट एरिया भेजा। भतीजा ग्राहक बनकर शिवदासपुर आया और उनकी बेटी से मुलाकात की। उसकी फोटो खींच कर उसके पास आया। इसके बाद एसएसपी से शिकायत की।

प्रतीकात्मक

 

पूछताछ में युवती ने रोते हुए बताया कि 12 साल की उम्र में उसका एक रिश्तेदार सामान दिलाने के लिए घर से बाहर ले गया था और फिर शिवदासपुर के रेड लाइट एरिया के एक घर में छोड़ दिया जहां उसकी कड़ी निगरानी की जाती थी और घर से बाहर निकलने पर पीटा जाता था। जब भी कभी उसने भागने की कोशिश उसे उसे लात-घूंसों और डंडे से पीटा गया। जब में बड़ी हुयी तो लगा कि अब उसके घर वाले उसे नहीं अपनाएंगे और उसी दलदल में पड़ी रही।