+

विजय माल्या ने की पीएम मोदी से गुजारिश - बैंक को कहें, पैसे ले लें

मनी लॉन्ड्रिंग और धोखाधड़ी करके विदेश भागे शराब व्यापारी विजय माल्या ने एक के बाद एक ट्वीट कर बैंकों से लिया गया पैसा देने की बात कही है। विजय माल्या ने पीएम मोदी के लोकसभा में दिए गए भाषण पर प्रतिक्रिया देते हुए प्रधानमंत्री को प्रखर वक्त भी कहा। ईडी द्वारा माल्या की 14,000 करोड़ की संपत्ति हड़पने को लेकर भी माल्या ने ट्वीट किया। दरअसल माल्या ने इस संबंध में लगातार 4 ट्वीट किये।

 

 

 

अपने पहले ट्वीट में माल्या ने लिखा, 'प्रधानमंत्री ने बुधवार को संसद में जो आखिरी भाषण दिया, उसे मैंने सुना। वह निश्चित तौर पर एक प्रखर वक्ता हैं। मैंने नोटिस किया कि उन्होंने बिना नाम लिए उस शख्स का जिक्र किया जो 9,000 करोड़ रुपये लेकर भाग गया। मीडिया में कही गई बातों से मैं अंदाजा लगा सकता हूं कि उनका इशारा मेरी तरफ था।'

वहीँ दूसरे ट्वीट में माल्या ने कहा 'मेरे पहले ट्वीट के बाद मैं आदरपूर्वक पूछना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री मेरा पैसा लौटाने का ऑफर स्वीकार करने के लिए बैंकों को निर्देश क्यों नहीं दे रहे हैं?  जबकि मैं जनता के पूरे पैसे चुकाने के लिए तैयार हूं जो किंशफिशर ने लिए थे।'

प्रतीकात्मक

 

माल्या ने तीसरे ट्वीट में कहा, मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि प्रवर्तन निदेशालय का दावा है कि मैंने अपनी संपत्ति छुपाई है। अगर ऐसा होता तो मैं कोर्ट के सामने 14,000 करोड़ रुपए की संपत्ति का खुलासा क्यों करता। जनता को गुमराह करना शर्मनाक है।

माल्या ने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि, मैंने माननीय कर्नाटक हाईकोर्ट के सामने बकाया राशि का भुगतान करने का प्रस्ताव रखा था। इसे नकारा नहीं जा सकता। यह गंभीर और ईमानदार पेशकश थी। गेंद अब आपके पाले में है। किंगफिशर को दी गई रकम बैंक वापस क्यों नहीं लेते।