+

आर्मी डॉग ने बचाई 40 जवानों की जिंदगी, लोगों ने किया सेल्यूट

आर्मी डॉग आम कुत्ते जैसे नहीं होते हैं। वे बहुत चतुर और शातिर होते हैं। इनके इसी गुण की वजह से कई बार बड़े हादसे होने बच जाते हैं। आपको बता दें की हालही में आर्मी के स्निफर डॉग ने अपनी काबलियत से सेना के 40 जवानों की जान बचाई है। असल में माओवादियों ने जवानों को निशाने पर रख कर कुछ विस्फोटक लगाए थे लेकिन उनके मंसूबो पर उस समय पानी फिर गया है। जब आर्मी के स्निफर डॉग ने उन सभी विस्फोटकों को पकड़ लिया। 

प्रतीकात्मक

 

आपको बता दें की शेरू नाम के इस कुत्ते को सीआरपीएफ के बम निरोधक दस्ते में शामिल किया गया है। इस कुत्ते को ख़ास ट्रेनिंग दी गई है। हालही में शेरू ने ओडिशा के रायगढ़ जिले में माओवादियों के विस्फोटक से 40 आर्मी के जवानों को बचा लिया है। डेक्कन-क्रॉनिकल पेपर इस बारे में बताता है कि यह सारा मामला रायगढ़-मुनिगड़ा के हटामुनीगड़ा क्षेत्र का है। यहां माओवादियों ने विस्फोटक पदार्थ को लगाया हुआ था लेकिन शेरू ने उस विस्फोटक को पकड़ लिया। इसके बाद तुरंत बम निरोधक दस्ते को बुलाया गया तथा सभी विस्फोटकों को निष्क्रिय कर दिया गया।

प्रतीकात्मक

 

हालांकि इस घटना में शेरू के पैर के नीचले हिस्से में काफी चोट आई लेकिन उसने आतंकी लोगों की योजना पर पानी फेर दिया। आपको बता दें की माओवादियों ने सेना के जवानों को निशाना बनाने के लिए आईईडी को जमीन में गाड़ा हुआ था। इस विस्फोटक का वजन करीब 5 किलोग्राम था। आतंकी लोगों का निशाना सीधे तौर पर सेना के जवान थे। यदि शेरू अपनी सूझ बूझ से कार्य न लेता तो सेना के 40 जवानों की जान खतरे में पड़ सकती थी। आपको बता दें की वर्तमान में ओडिशा पुलिस के साथ सीआरपीएफ का सांझा काम्बिंग ऑपरेशन चल रहा है। शेरू को सेना में भर्ती हुए अभी महज चार वर्ष हुए हैं तथा शंभू प्रसाद नामक आर्मी मेन उसके ट्रेनर हैं। शेरू ने अपनी सूझबूझ से जो कार्य किया है उसके लिए आज देश का हर व्यक्ति उसको सेल्यूट कर रहा है।