+

दुल्हनों का बाजार, 5 हजार रु. में मिलती हैं मनपसंद दुल्हन

जो लोग इतिहास की थोड़ी भी जानकारी रखते हैं, वे जानते होंगे कि पुराने जमाने में राजा महाराजाओं को जो लड़की पसंद आती थी वे उसे ही अपनी पत्नी बना लेते थे और लड़की के घरवालों को कुछ चंदा दे देते थे। हालांकि राजा महाराजाओं के जमाने का यह रिवाज आजकल देखने को नहीं मिलता है। लेकिन दुनियां के एक हिस्से में आज भी ऐसी ही कुछ परम्पराएं प्रचलित हैं, जहां शादी के लिए लड़कियों का बाजार लगता है। 

प्रतीकात्मक

 

यहां लगता है 'लड़कियों का बाजार'

अगर आपको कभी कुछ घरेलू या अन्य प्रकार का सामान लेना होता है, तो आप बाजार चले जाते हैं। लेकिन दक्षिण-पूर्व यूरोप में स्थित बुल्गारिया देश के स्टारा जागोर में अगर किसी लड़के को शादी करनी हो, तो वह भी लड़कियों के बाजार चला जाता है। दरअसल यही वह जगह है जहां राजा महाराजाओं के समय की यह परंपरा आज भी जिंदा है। यहां पर लोग पैसे देकर लड़की खरीदते हैं और लड़की से शादी कर लेते हैं। यह बाजार स्टारा जागोर में हर तीन साल में एक बार लगता है, जिसे 'दुल्हनों का बाजार' भी कहा जाता है। 

प्रतीकात्मक

 

5000 रुपए खरीदी जाती हैं दुल्हनें

लेकिन बताया गया है कि यहां पर उन्हीं परिवारों की लड़कियां आती हैं, जिनकी आर्थिक स्थिति कमजोर होती है और जो अपनी लड़की की शादी का खर्च नहीं उठा पाते। यहां पर आने वाली सभी लड़कियों को दुल्हन के लिबाज में लाया जाता है। दुल्हन ढूंढने निकले लड़के के साथ उसका परिवार भी मौजूद होता है। पहले वह पूरे बाजार में घूमता है फिर उसे जो लड़की पसंद आती है, उसे शादी करके अपनी पत्नी बना लेता है। इसके लिए लड़की के पिता को लड़का 5 हजार रुपये भी देता है। बताया जाता है कि यह परंपरा यहां पर कई सालों से चली आ रही है और इस पर कानून भी प्रतिबंध नहीं लगाता।