+

कुंभ 2019 - प्रारंभ हुआ कुंभ, 49 दिन में होगा 15 करोड़ लोगों का आवागमन

कुंभ दुनिया का सबसे बड़ा आध्यात्मिक तथा धार्मिक मेला होता है। इसका प्रारंभ 14 जनवरी 2019 सोमवार से हो चुका है। माना जा रहा है प्रयागराज में लगने वाले कुंभ मेले में करीब 15 करोड़ लोग आस्था की डुबकी लगाएंगे। आपको बता दें की 14 जनवरी से शुरू होने वाला यह मेला 4 मार्च तक चलेगा। इस हिसाब से यह मेला 49 दिन तक चलेगा। उत्तर प्रदेश सरकार ने इस मेले के आयोजन की तैयारी काफी दिन पहले से शुरू कर दी थी। यूपी सरकार ने बताया है कि पहले कुंभ मेले का आयोजन महज 20 वर्ग किमी में किया जाता था लेकिन इस बार यह 45 वर्ग किमी में किया जा रहा है। इस मेले को टेंट सिटी बहुत ख़ास बनाती है। 50 करोड़ की लागत से सरकार ने कुंभ परिसर में 4 टेंट सिटी बनाई हैं। सरकार का मानना है की इस मेले में करीब 4300 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। 10 करोड़ लोगों को सरकार की और से ही मेले में आने का निमंत्रण दिया गया है। आपको बता दें की कुंभ मेला प्रत्येक 12 वर्ष में लगता है और 2 कुंभ मेलों के बीच 6 वर्ष में एक अर्धकुंभ भी लगता है।  वर्तमान में प्रयागराज में लगने वाला मेला अर्द्धकुंभ है और पूर्ण कुंभ का आयोजन 2025 में किया जाएगा। लोगों को पानी की किल्लत न हो इसलिए मेले में 690 किमी लंबी पाइप लाइन को बिछाया गया है। सीएक अलावा मेला परिसर में 25 हजार स्ट्रीट लाइट, 20 हजार पुलिसकर्मी तथा 7 हजार सफाईकर्मी भी लगाए गए हैं। 

प्रतीकात्मक
कुंभ की प्राचीनता तथा इतिहास - 

भारत के चार स्थानों पर ही कुंभ मेला लगता है। जो की उज्जैन, प्रयाग, हरिद्वार तथा नासिक हैं। कुंभ का अर्थ होता है कलश। यह मेला मकर संक्रांति के दिन से प्रारंभ होता है। पौराणिक कथा के अनुसार देवता तथा असुरों ने साथ मिलकर समुद्र मंथन किया था। मंथन के दौरान ही समुद्र से अमृत निकला था। उसको लेकर देवताओ तथा असुरों के बीच में छीनाझपटी हो गई थी। इस कारण अमृत की कुछ बूंदे तीन नदियों गंगा, शिप्रा और गोदावरी में गिरा था। इस लिए ही कुंभ मेले का आयोजन इन नदियों के किनारे ही किया जाता है। प्राचीन भारत के गुप्तवंश के इतिहास में भी कुंभ मेले का जिक्र मिलता है। उस समय 617 से 647 ईसवीं के बीच में एक चीनी यात्री भारत में आया था। उसने अपनी किताब में लिखा है की प्रयागराज के कुंभ मेले में राजा हर्षबर्धन ने अपनी सारी संपत्ति को दान कर दिया था। इस बार के कुंभ मेले में यात्रियों की सुविधा के लिए 200 एटीएम, 600 रसोई घर, 1.20 लाख बॉयो टॉयलेट तथा 4 हजार हॉट स्पॉट लगाए गए हैं।