+

दुनियां की नंबर 1 बॉक्सर बनी भारत की 'मैरी कॉम'

भारत की महिला बॉक्सर मैरी कॉम ने बॉक्सिंग वर्ल्ड रैंकिंग में पहला पायदान हासिल कर लिया है। अभी नवंबर 2018 में मैरी कॉम ने 48 किग्रा भारवर्ग के फाइनल में यूक्रेन की हना ओखाटा को 5-0 से हराकर वर्ल्ड चैंपियनशिप पर कब्ज़ा किया था। इसके साथ ही वह 6 बार वर्ल्ड चैंपियनशिप जीतने वाली पहली खिलाड़ी भी बनी थीं। इस जीत के साथ मैरी कॉम ने आयरलैंड की केटी टेलर को पीछे छोड़ दिया था और वर्ल्ड चैंपियनशिप के इतिहास में सबसे कामयाब पुगलिस्ट जो कुबान लीजेंड फेलिक्स सेवान की बराबरी कर ली थी। इंटरनेशनल बॉक्सिंग असोसिएशन ने 'फ्लाइट ले 45-48 किग्रा' की कैटेगरी में 1700 पॉइंट्स के साथ मैरी कॉम के नंबर 1 पायदान हासिल करने की घोषणा की। वहीँ इसके बाद हना ओखाटा 1100 पॉइंट्स के साथ दूसरे पायदान पर हैं।

मैरी कॉम ने पहली बार 2001 में महिला बॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियनशिप जीती थी। इसके बाद उन्होंने अगली 5 वर्ल्ड चैंपियनशिप में गोल्ड जीता। साथ ही मैरी कॉम ने ओलंपिक गेम्स 2012 में ब्रॉन्ज जीत कर भारत का नाम रौशन किया था।

प्रतीकात्मक

हिट रही थी मैरी कॉम की बायोपिक

2014 में मैरी कॉम के जीवन पर आधारित एक बॉलीवुड फिल्म भी बनी  थी। इस फिल्म का नाम 'मैरी कॉम' ही था और इसमें अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा ने उनका किरदार निभाया था। यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट भी साबित हुई। इस फिल्म से लोगों को मैरी कॉम के चैंपियन बनने से लेकर निजी जीवन में आयी परेशानियों के बारे में जानने को भी मिला।

नहीं खेल पाएंगी 2020 ओलंपिक

बता दें कि मैरी कॉम 36 साल की हो गई हैं और वह तीन बच्चों की मां भी हैं। उनका अब तक का करियर बहुत ही बेहतरीन रहा, लेकिन अब वह 2020 के ओलंपिक में हिस्सा नहीं ले पाएंगी। क्योंकि वह 48 किग्रा भारवर्ग में बॉक्सिंग करती थीं और 48 किग्रा कैटेगरी को गेम के रोस्टर में शामिल नहीं किया गया है।