+

दिल्ली में बढ़ा जुर्म का ग्राफ, हर 2 दिन में जाती हैं 3 हत्याएं

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में अपराध का ग्राफ लगातार बढ़ता ही जा रहा है। आकड़ो की मानें तो हर दो दिन में 3 लोगों की हत्या किसी न किसी कारण से हो ही जाती है। सबसे अनोखी बात यह है की ये हत्याएं किसी बड़ी बात पर नहीं बल्कि छोटी छोटी बातों पर ही हो रही हैं। आपको बता दें की सन 2017 में दिल्ली में 462 कत्ल की वारदात सामने आई जबकी 2018 में 477 लोगों की हत्या हुई थी। हुई इन हत्याओं में 38 फीसदी लोगों को किसी न किसी रंजिश की वजह से क़त्ल किया गया था हालांकि दिल्ली पुलिस 86.16 मामलों के खुलासे का दावा करती है। 

2018 में हुई हत्याओं में 43 फीसदी लोगों का क़त्ल धारदार हथियार से किया गया था। जबकी ये क़त्ल छोटी छोटी बातों पर ही किये गए थे। इसका उदहारण है दिल्ली के उत्तम नगर में घटी 6 अक्तूबर 2018 की घटना। इस घटना में एक ऑटो चालक का ऑटो एक स्थानीय व्यक्ति के कुत्ते से टकरा गया था। इसके बाद ऑटो चालक की हत्या चाकू तथा पेचकस से कर दी गई थी। 11 नवंबर 2018 को दिल्ली के बाबा हरिदास नगर में शराब न देने के कारण एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई थी। इसके अलावा मंगोलपुरी में 30 अगस्त को एक युवक की हत्या का मामला भी सामने आया था। 

प्रतीकात्मक

इन सभी के वाबजूद दिल्ली पुलिस का कहना है की उन्होंने हथियारों का इस्तेमाल रोकने के लिए अब तक 1901 लोगों को गिरफ्तार किया है। इन सभी के पास में से 1905 पिस्टल तथा तमंचे सहित कई अन्य हथियारों को पकड़ा है। 2018 में जिन हत्याओं की रिपोर्ट दर्ज की गई थी उनमें सबसे ज्यादा तेज हथियारों का इस्तेमाल किया गया था। जानकर हैरानी होगी की  छोटी छोटी बात पर ही हत्या को अंजाम देने लगे हैं। अब तक के आकड़ो से पता लगा है की 21 हत्या सिर्फ गुस्से में की गई तथा 38 हत्याएं रंजिश में की गई थी। इसके अलावा कुछ हत्याएं टशन दिखाने तथा अपराध के दौरान हुई थी। कुल मिलाकर आज के समय में आपकी सतर्कता ही आपके जीवन का रक्षा कवच है।