+

इस्लान छोड़ सऊदी से भागी 18 वर्षीय लड़की, अब नहीं चाहती वापस जाना

रहाफ मोहम्मद एम अल्कुनून नामक एक 18 वर्षीय लड़की को बैंकॉक में एयरपोर्ट पर पकड़ लिया गया। यह लड़की सऊदी अरब की निवासी है तथा इस्लाम को 2 साल पहले छोड़ चुकी है। रहाफ मोहम्मद का कहना है कि वह नास्तिक है और 2 वर्ष पहले वह इस्लाम को छोड़ चुकी है। अपने परिवार के आतंक से बचने के लिए वह सऊदी से भागी है और अब वह वापस नहीं जाना चाहती है। यदि को बैंकॉक सरकार ने वापस भेजा तो उसके परिवार वाले उसका क़त्ल कर देंगे। रहाफ मोहम्मद सऊदी के अमीर परिवार से ताल्लुक रखती है उसके पिता एक व्यापारी हैं। रहाफ मोहम्मद का कहना है कि परिवार की कड़ी पावंदियों से बचने के लिए उसके पास यही एक रास्ता था इसलिए वह अपने घर से भाग निकली। 

प्रतीकात्मक

रहाफ मोहम्मद का ना ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है। रहाफ ने ट्विटर पर लिखा है कि "मैं अकेले रह सकती हूं, स्वतंत्र और उन सब लोगों से दूर जो मेरी गरिमा का और मेरे औरत होने का सम्मान नहीं करते। मेरे साथ परिवार ने हिंसक व्यवहार किया और मेरे पास इसके पर्याप्त सबूत हैं।" रिहाफ़ ने कई ट्वीट किये हैं तथा संयुक्त राष्ट्र से भी शरण देने की मांग की है। रहाफ़ ने कहा है कि "मैं कुवैत तक कार से एक फैमिली हॉलिडे के लिए आई थी। सुबह के 4 बज रहे थे और मैंने देखा कि मेरे परिवार के सारे लोग सो रहे हैं। मुझे लगा कि मेरे पास यही एक आखिरी मौका है इस कैद से छुटकारा पाने का। मैंने ऑस्ट्रेलिया का टिकट लिया क्योंकि वहां का टूरिस्ट वीजा मिलना काफी आसान होता है। मेरा लक्ष्य था कि ऑस्ट्रेलिया पहुंचकर मैं अपने लिए शरण देने की मांग करूंगी।" कुवैत एयरलाइन से बैंकॉक पहुंचने पर उसका पासपोर्ट वापस ले लिया गया था। फिलहाल रहाफ कई वकीलों के साथ फोन पर संपर्क में है लेकिन सोमवार की सुबह तक उसको कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिल पाया था।