+

तीन सरकारी बैंकों का हो रहा है विलय, ग्राहकों पर पड़ेगा असर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट ने तीन प्रमुख सरकारी बैंकों के विलय को मंजूरी दे दी है। जिसके बाद अब नए साल में बैंक ऑफ़ बड़ौदा, विजया बैंक और देना बैंक ख़त्म होकर एक नए बैंक का निर्माण कर रहे हैं। सरकार ने 2018 में ही इस बात का ऐलान कर लिया था। इन बैंकों के विलय होने से ग्राहकों को परेशानी उठानी पड़ सकती है।

बनी रहेगी ब्रांड पहचान

तीनों बैंकों के विलय की मंजूरी देते हुए सरकार की ओर से इस बात के संकेत भी दिए गए हैं कि ब्रांड पहचान को बरकरार रखा जाएगा। इससे जाहिर होता है कि बैंकों के विलय के बाद भी बैंक ऑफ बड़ौदा का नाम बना रहेगा। इस विलय के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा के पास कुल 9401 बैंक शाखाएं और 13432 एटीएम होने का अनुमान है।

बनेगा देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक

इन बैंकों के विलय से जो बैंक अस्तित्व में आएगा, वह एसबीआई और आईसीआईसीआई बैंक के बाद देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक बनेगा। हालांकि निश्चित तौर पर इन बैंकों का पेपरवर्क काफी बढ़ जाएगा। तीनों बैंकों के विलय से ग्राहकों को भी खासी परेशानी उठानी पड़ सकती है।

प्रतीकात्मक

कर्मचारियों पर नहीं पड़ेगा असर

बैंकों के विलय के बाद एक सवाल जो सामने आता है वो ये है कि इनके वर्तमान कर्मचारियों की नौकरी पर क्या असर पड़ेगा? तो इसका जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि "इस विलय से इन बैंकों के कर्मचारियों की सेवा शर्तों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा और विलय के बाद कोई छंटनी भी नहीं होगी।"

ग्राहकों को क्या बदलाव कराने पड़ेंगे

अगर आप इन तीनों में से किसी बैंक के भी खाताधारक हैं तो आपको कुछ बदलाव कराने पड़ सकते हैं। SBI के रिटायर्ड CGM सुनील पंत के मुताबिक ग्राहकों पर एकदम से कोई असर नहीं पड़ेगा, लेकिन धीरे धीरे बैंकों के चेकबुक, अकाउंट नंबर और कस्टमर आईडी में बदलाव संभव है। वहीँ नए बैंक के अस्तित्व में आने के बाद ग्राहकों को अपने खाते की नई केवाईसी करनी पड़ सकती है। लेकिन ग्राहकों के लोन और ईएमआई पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। साथ ही बैंक शाखाओं के IFSC कोड बदल सकते हैं। हालांकि इन सभी फैसलों या बदलाओं पर आखिरी फैसला बोर्ड करेगी।

आपको ये भी बता दें कि इन तीनों सरकारी बैंकों के विलय के बाद जो नया बैंक बनने जा रहा है, वो 1 अप्रैल से अस्तित्व में आएगा। इसलिए आप अगर इन तीनों में से किसी बैंक के भी ग्राहक हैं, तो अपने खाते में अपना मोबाइल नम्बर और ईमेल आईडी अपडेट करा दें। ताकि बैंक के किसी भी बदलाव के बारे में जानकारी आपको तुरंत मिल जाए।