+

संजलि हत्याकांड- चचेरा भाई ही निकला बहन का हत्यारा

Image result for आगरा संजलि हत्याकांड का हुआ पर्दाफाश प्रतीकात्मक

18 दिसंबर को आगरा के लालऊ गांव में एक शर्मनाक घटना हुई। इस घटना ने फिर ये साबित कर दिया, कि समाज में महिलाओं के साथ अपराध अभी थमे नहीं हैं। लालऊ गांव में रहने वाली 10वीं की छात्रा संजलि को स्कूल से घर जाते वक़्त दो बाइकसवार युवकों ने पेट्रोल डाल कर जला दिया। जिसके बाद संजलि ने 19 नवम्बर की रात को 2 बजे दम तोड़ दिया और एक बार फिर महिलाओं की रक्षा के लिए बने कानून शर्मशार हो गए। हालांकि घटना के बाद आठवें दिन पुलिस ने इस वारदात को अंजाम देने वाले दोनों बाइकसवारों को पकड़ लिया। लेकिन जांच के बाद पता चला कि इस घटना के मुख्य आरोपी या मास्टरमाइंड योगेश ने संजलि की मौत के अगले ही दिन ज़हर खाकर खुदखुशी कर ली थी। 

Image result for आगरा संजलि हत्याकांड का हुआ पर्दाफाश प्रतीकात्मक

क्या थी पूरी घटना?

रिपोर्ट के अनुसार 23 नवम्बर को संजलि के पिता पर हमला हुआ था। संजलि को लगा ये हमला उसके तहेरे भाई योगेश ने करवाया है। जिसके बाद संजलि ने व्हाट्स एप पर योगेश को लिख था 'यू आर लूज़र, तुम भाई कहलाने के लायक नहीं।' बस इसी घटना के बाद योगेश के मन में नफरत की आग भड़क गई। योगेश ने आकाश और विजय को 15-15 हजार रुपये का लालच देकर इस घटना को अंजाम देने को कहा। 

Image result for आगरा संजलि हत्याकांड का हुआ पर्दाफाश प्रतीकात्मक

18 दिसंबर को संजलि स्कूल की छुट्टी के बाद घर जा रही थी। तभी पीछे से आकाश और विजय एक लाल बाइक में आये और संजलि पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। घटना को अंजाम देने के तुरंत बाद दोनों आरोपी वहां से फरार हो गए। आग से झुलसी संजलि को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में ले जाया गया, जहां 19 नवम्बर को रात दो बजे संजलि ने दम तोड़ दिया। संजलि की मौत के अगले ही दिन 20 दिसंबर को सुबह साढ़े 6 बजे घटना के मास्टरमाइंड योगेश ने भी ज़हर खा लिया, जिसके बाद अस्पताल में उसकी भी मौत हो गयी।

 

Image result for आगरा संजलि हत्याकांड का हुआ पर्दाफाश प्रतीकात्मक

पुलिस के मुताबिक़ योगेश की मौत के बाद केस थोड़ा उलझ सा गया था। लेकिन पूरी छानबीन के बाद घटना के आठवें दिन जब आकाश और विजय पकड़े गए तो पूरा केस साफ़ हो गया था। आकाश और विजय को अब जेल में भेज दिया गया है। जांच में ये भी पता चला कि योगेश, संजलि का तहेरा भाई था और आकाश और विजय, योगेश के रिश्तेदार थे। इस पूरी घटना को एसएसपी अमित पाठक ने सबके सामने रखा था।

Image result for agra sanjali hatyakand प्रतीकात्मक

पर्दाफाश से संतुष्ट नहीं संजलि के परिजन 

पुलिस के अनुसार संजलि हत्याकांड का पर्दाफाश हो चुका है, लेकिन इस पर्दाफाश से संजलि के घरवाले संतुष्ट नहीं हैं। मंगलवार को उनके समाज के नेताओं ने एक बैठक बुलाई। जिसमें उन्होंने सीबीआई जांच की मांग रखी। उनका कहना है कि पुलिस जरूर किसी दबंग को बचा रही है और पुलिस ने पकड़े गए युवकों से टॉर्चर करके इल्जाम कबूल करवाया है। संजलि के परिजनों का कहना है कि वे इसके लिए कोर्ट का सहारा भी लेंगे।