+

285 करोड़ के लिए मृत मां को बताया जिंदा

प्रतीकात्मक

आरोपी सुनील की मां कमलेश रानी की मृत्यु 7 मार्च 2011 को हो गयी थी । कमलेश रानी के पास 285 करोड़ रुपए की संपत्ति के साथ -साथ मुंबई में एक मोमबत्ती बनाने की फैक्ट्री भी थी। कमलेश रानी ने बसीयत में अपने मरने के बाद सारी  संपत्ति को उनके बेटों में बराबर बराबर बाटने को कहा है। 

सुनील के बड़े भाई विजय गुप्ता ने जिला कोर्ट में अपने भाई पर आरोप लगाया कि सुनील ने एक फर्जी डीड बनबाई जिसमें मृत मां को जिंदा बताते हुए, मोमबत्ती बनाने वाली कंपनी को  मां ने तोहफे के रूप में दिया कहकर अपने नाम करबा ली। 

प्रतीकात्मक

विजय ने यह ये भी बताया कि सुनील ने मां की मौत के बाद कंपनी से 29 करोड़ रुपए का ट्रांसफर अपने एक दोस्त की कंपनी में किया। । जब विजय ने बड़े भाई का विरोध करना शुरू किया तो उसने जान से मारने की धमकी दी। 

सबूत जुटाने के बाद नोएडा से पुलिस टीम मुंबई भेजी गयी , जहां से सुनील, उसकी पत्नी और बेटे को गिरफ्तार कर  नोएडा लाया गया। उन्हें कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया है।