+

जमीन से मिला 2 हजार वर्ष पुराना खजाना।

हमारे देश का इतिहास बहुत पुराना रहा है। यही कारण है कि आज के समय में किसी स्थान विशेष पर खुदाई करते वक्त प्राचीन समय के कुछ चिंह मिल ही जाते हैं। कई बार इस प्रकार कि घटनाएं सामने आ चुकी हैं जब खुदाई करते समय जमीन से कुछ पुरानी चीजें निकली हों। हालही में ऐसी ही एक घटना उत्तर प्रदेश के बागपत से भी सामने आयी है। बागपत क्षेत्र के खपराना गांव में खुदाई के दौरान 2 हजार साल पुरानी कई चीजें मिली हैं। इनमें महिलाओं की ज्वैलरी से लेकर पुराने समय के सिक्के, बर्तन तथा अन्य कुछ चीजें शामिल हैं। आपको बता दें खपराना गांव कि 100 बीघा से भी ज्यादा जमीन में प्राचीन टीले मौजूद हैं। इस स्थान से ही यह खजाना खुदाई के दौरान मिला है। 

 

 

ASI को भेजी जायेग़ी रिपोर्ट - 

"शहजाद राय शोध संस्थान" के निदेशक अमित राय जैन ने इस जमीन का सर्वेक्षण किया है। उनका कहना है की इसकी रिपोर्ट भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण(ASI) को भेजी जाएगी। अमित राय ने यह भी बताया कि वे ASI को यहां के उत्खनन के लिए लेटर भी लिखेंगे ताकी यहां दफ़न प्राचीन सभ्यता की निशानियां दुनिया के सामने आ सकें। 

2000 वर्ष प्राचीन हैं सिक्के - 

खपराना गांव में खुदाई के दौरान जो कुछ मिला है। उसमें कुछ सिक्के भी हैं। तांवे घातु के ये सिक्के करीब 2 हजार वर्ष पहले कुषाण काल के बताये जा रहें हैं। माना जा रहा है कि ये सिक्के उस समय राजा वासुदेव ने 200-225 AD में जारी किये थे। ये सभी सिक्के जमीन से मिट्टी के छोटे छोटे बर्तनों में भरे मिले थे। प्रत्येक सिक्के का साइज 23 मिमी तथा बजन 7 से 8 ग्राम का है। सिक्के के एक और राजा वासुदेव एक हाथ में त्रिशूल लिए तथा दूसरे हाथ से यज्ञ में आहुति देते हुए दिखाई पड़ रहें हैं। सिक्के के दूसरी और भगवान शिव तथा नंदी की तस्वीर बनी हुई है। आपको बता दें कि कुषाण साम्राज्य अपने समय में भारत के उत्तर से पूर्वी भाग तक और वहां से वर्तमान अफगानिस्तान तक फैला हुआ था।