+

अयोध्या में 3 लाख से अधिक दीये जलाकर बनाया गया विश्व रिकॉर्ड

दिवाली से एक दिन पहले योगी आदित्यनाथ का फैज़ाबाद में दीपोत्सव कार्यक्रम था। कार्यक्रम में योगी के साथ साउथ कोरिया की पहली महिलाकिम जुंग सूक’ भी मौजूद थी। कार्यक्रम के दौरान अयोध्या वासियों ने सरयू नदी के तट पर दिये जलाकर रखे तो रिकॉर्ड ही बन गया। रिकॉर्ड बना भी तो ऐसा कि 'गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड' में दर्ज हो गया। इस उत्सव पर सरयू नदी के तट पर 301152 दिये जलाये गए। जो की अब किसी उत्सव में सबसे ज्यादा दिये जलाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बन गया। इस से पहले किसी उत्सव में 150009 दिये जलाने का रिकॉर्ड था। रिकॉर्ड तो बना ही लेकिन साथ ही पूरी अयोध्या नगरी भी जगमगा उठी। इसके दौरान योगी आदित्यनाथ और किम जुंग सूक ने दीप जलाकर कार्यक्रम की शुरुवात की और इसके बाद अयोध्या में खूब कार्यक्रम हुए।

    छोटी दिवाली पर ये सब तो हुआ ही लेकिन इसके साथ ही जो बात सुर्ख़ियों में रही वो थी कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मौके पर एक बड़ी घोषणा की। नाम बदलने के लिए चर्चा में रहते आये योगी ने एक और नाम बदलने की घोषणा की। योगी आदित्यनाथ ने भाषण के दौरान कहा कि 'फैज़ाबाद जिले को अब अयोध्या के नाम से जाना जायेगा।' योगी ने कहा कि 'अयोध्या हमारी आन, बान और शान है।' इसके साथ ही योगी ने अयोध्या में भगवान् 'राम' के नाम पर एक एयरपोर्ट के निर्माण की घोषणा की। और साथ ही योगी ने अयोध्या में 'दशरथ' के नाम पर एक मेडिकल कॉलेज बनाने की घोषणा भी की। इस घोषणा के साथ ही जनता में एक नारे की आवाज़ गूंजने लगी 'योगी तुम एक काम करो, मंदिर का निर्माण करो।

   इससे पहले भी योगी ने अपनी सरकार के चलते कुछ जगहों के नाम बदले थे। योगी ने मुग़लसराय जंक्शन का नाम बदलकर 'पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन' कर दिया था। फिर बेहद सुर्ख़ियों में रही घटना जिसमे योगी ने 'अलाहाबाद' का नाम बदलकर 'प्रयागराज' कर दिया था। फिर अभी हाल ही में 'इकाना इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम' का नाम बदलकर 'भारत रत्न श्री अटल बिहारी वाजपयी क्रिकेट स्टेडियम' कर दिया। और अब 'फैज़ाबाद' जिला बदलकर 'अयोध्या' होने की घोषणा कर दी है। वैसे कहा जाय तो अपने 1.5 साल के कार्यकाल में अभी तक योगी काफी कुछ बदल चुके हैं। लेकिन विकास के तौर पर देखा जाय तो आंकड़े शायद कुछ और हो सकते हैं।