+

शिक्षण संस्थानों में होने वाली धांधली को दर्शाती है फिल्म वाय चीट इंडिया

फिल्म "वाय चीट इंडिया" शुक्रवार को रिलीज कर दी गई है। इस फिल्म में इमरान हाशमी हैं। यह फिल्म शिक्षा व्यवस्था में फैले हुए भ्रष्टाचार पर बनी है। इस फिल्म में इमरान हाशमी राकेश सिंह का किरदार निभा रहें हैं। जो अमीर स्टूडेंट्स को पास कराने के लिए होशयार स्टूडेंट्स को भेजता है। यदि आप इस फिल्म को देखने का प्लान कर रहें हैं तो जानें से पहले यहां पढ़ें इस फिल्म का रिव्यू। 

प्रतीकात्मक

 

इमरान हाशमी यानि फिल्म का राकेश सिंह अपने तथा अपने परिवार के सपनों को पूरा करने के लिए चीटिंग की दुनियां में निकल पड़ता है। राकेश एक ऐसा व्यक्ति जो शिक्षा तंत्र की खामियों को अच्छे से जनता है। वह गरीब तथा होशियार स्टूडेंट का यूज करता है। वह गरीब तथा होशियार स्टूडेंट को अमीर स्टूडेंट्स के स्थान पर एग्जाम दिलाता तथा उनको पैसे देता है। उसको लगता है की ऐसा करना कोई गलत कार्य नहीं है क्यों की वह ऐसा करके गरीब बच्चों की आवश्यकता को भी पूरा कर रहा है। लेकिन इसी बीच उसका यह खेल उल्टा पड़ जाता है और वह कानून के शिकंजे में फंस जाता है। इसके बाद उसके साथ क्या होता है वह आप फिल्म में स्वयं देख लें। जहां तक बात अभिनय की है तो बता दे की इस फिल्म में इमरान खान के अभिनय में काफी मैच्योरिटी दिखाई दे रही है। इमरान ने जिस प्रकार से खुद को फिल्म के अभिनय में ढाला है वह तारीफ के काबिल है। श्रेया ने इस फिल्म से अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत की है वह भी तारीफ के काबिल है।