+

वीजा और पासपोर्ट के लिए यहां लोग चढ़ाते हैं हवाई जहाज

प्रतीकात्मक

हमारे देश में बहुत बड़ी संख्या में गुरूद्वारे और मंदिर हैं। इन सभी में लोग भोग के तौर पर प्रसाद चढ़ाते हैं। हालांकि दोनों की धर्मों की अपनी अपनी मान्यताएं हैं। इसी क्रम में आज हम आपको एक ऐसे गुरूद्वारे के बारे में बता रहें हैं। जहां भोग के तौर पर लोग हवाई जहाज़ों को चढ़ाते हैं। आपको बता दें कि पंजाब के जालंधर में स्थित c में लोग भोग के स्थान पर खिलौने वाले हवाई जहाज चढ़ाते हैं। यही कारण है कि बहुत से लोग इस गुरूद्वारे को "हवाई जहाज वाला गुरुद्वारा" भी कहते हैं। 

प्रतीकात्मक

आखिर कौन थे बाबा निहाल सिंह - 

बाबा निहाल सिंह लोहे के औजार बनाने का कार्य करने वाले कारीगर थे। वे नलकूप में लगने वाले सामानों का निर्माण करते थे। लोगों का मानना था कि उनके हाथ से बना नलकूप कभी सूखता नहीं था। यही कार्य करते हुए एक दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई थी। बाबा निहाल सिंह को शहीद का दर्जा दिया गया और उनकी समाधि पर गुरूद्वारे का निर्माण किया गया। इस गुरूद्वारे को करीब 150 वर्ष हो चुके हैं। 

प्रतीकात्मक

हवाई जहाज क्यों चढ़ाते हैं लोग - 

यहां के स्थानीय लोगों का मानना है कि यदि आपका वीजा या पासपोर्ट नहीं बन पा रहा है। तब आप यहां आकर "खिलौने वाला हवाई जहाज" चढ़ाएं। इससे आपकी विदेश जानें संबंधी सभी समस्याएं दूर होंगी। गुरूद्वारे प्रवंधक कमेटी का कहना है कि लोगों द्वारा चढ़ाए गए हवाई जहाज बच्चों को बांट दिए जाते हैं। गुरूद्वारे के बाहर बाजार में बहुत सी दुकानें हैं जिनमें हवाई जहाज बिकते हैं। रविवार को हवाई जहाज चढाने के लिए लोग बड़ी संख्या में आते हैं।