+

सभी राजनैतिक दल 30 मई तक चुनाव आयोग को दें चंदे की जानकारी : सुप्रीम कोर्ट

उच्चतम न्यायालय  ने सभी राजनैतिक पार्टियों को दिए गए आदेश में कहा  है कि देश के सभी राजनैतिक दल 30 मई तक चुनावी बॉन्ड की रसीदों को निर्वाचन आयोग को सौपेंगे तथा  दानदाताओं की पहचान और उनके खातों में मौजूद धनराशि का ब्यौरा  एक सील बंद लिफाफे में चुनाव पैनल को सौपें। चुनावी बॉन्ड व्यवस्था की घोषणा सरकार ने साल 2017 के बजट में की थी। जिसको याचिकाकर्ता संगठन एडीआर ने कोर्ट में चुनौती दी थी। एडीआर  का कहना है ये जरूरी था अब इसके जरिये पता चल सकेगा कि राजनीतिक दलों को चंदा कहां से और कौन दे रहा है।

प्रतीकात्मक

 

दरसल, भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा अनुमति मिलने पर अधिसूचित बैंक सभी राजनैतिक पार्टियों को चुनावी बॉन्ड जारी करते  है। यदि आप किसी राजनीतिक पार्टी को दान या चंदा देने के इच्छुक हैं, तो आप इन बॉन्ड को डिजिटल रूप से या चेक के माध्यम से भुगतान करके खरीद सकते हैं। फिर आप एक पंजीकृत राजनीतिक पार्टी को उपहार या चंदा देने के लिए स्वतंत्र हैं। और उसके बाद संबंधित पार्टी इन बॉन्ड को अपने बैंक खातों के माध्यम से रुपये में बदल सकती है। इसके लिए उपयोग किए गए बैंक खाते की जानकारी चुनाव आयोग को देना अनिवार्य है।