+

दिल्ली में AAP को भारी पड़ सकती है मनोज तिवारी और विश्वास की मुलाकात

सोमवार देर रात दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी और कुमार विश्वास के बीच डिनर पर हुई लंबी चर्चा  बाद राजनीतिक गलियारों में सियासी चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। कभी आम आदमी में अपना बड़ा कद रखने वाले कुमार विश्वास का पार्टी में वो स्थान नहीं रहा। विश्वास का आप के प्रति गुस्सा पहले भी कई मंचों से पर दिखाई पड़ा। उम्मीद लगाई जा रही है कि आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास जल्द ही भाजपा के साथ चुनावी रण में दिखाई दे सकते हैं।

प्रतीकात्मक

 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार -मनोज तिवारी और विश्वास के हुयी इस चर्चा के बाद विश्वास लोकसभा चुनाव में भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ सकते है । विधान चुनाव में मिली करारी हार के बाद भाजपा लोक सभा चुनाव में किसी तरह की कोई कोताही नहीं बरतना चाहती है। यही कारण है कि दिल्ली की प्रत्येक लोकसभा सीट पर जातीय समीकरण बैठाने में भी जुटी है। चूंकि पूर्वी दिल्ली में एकमात्र सीट ऐसी है, जहां हर चुनाव में ब्राह्मण फैक्टर हावी रहा है। ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा  है कि कुमार विश्वास पूर्वी दिल्ली की जनता का भरोसा जीत सकते हैं और भाजपा का विश्वास के रूप में ये मास्टर कार्ड कांग्रेस और आप पर भी भारी पड़ सकता है।

प्रतीकात्मक

 

दूसरी तरफ अगले सप्ताह से दिल्ली में शुरू होने वाले आयुष्मान मार्च में वे स्टार प्रचारक होंगी। सोमवार से शनिवार तक दिल्ली के 13 हजार 800 बूथों के अलावा शॉपिंग मॉल्स, मेट्रो स्टेशन, बस स्टैंड, मुख्य बाजार इत्यादि इलाकों में जाकर भाजपा आयुष्मान भारत योजना को दिल्ली में रोके जाने का प्रचार करेगी। भाजपा का कहना है कि पूरे देश में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत करीब ढाई करोड़ गरीब परिवारों को आशियाना मिल चुका है, लेकिन केजरीवाल सरकार ने इस योजना को दिल्ली में लागू नहीं होने दिया।