+

होलिका दहन में मायावती और अखिलेश के पोस्टर जलाने पर बीजेपी नेता के खिलाफ केस दर्ज

होली का त्योहार जा चुका है। पूरे देश में इस साल भी बड़े उल्लास के साथ होली मनाई गई। पहले होलिका दहन और फिर एक-दूसरे पर रंग लगाने का ये त्योहार युगों से चलता आ रहा है। माना जाता है होलिका दहन में बुराइयों को आग में जलाया जाता है और फिर इस खुशी में एक-दूसरे पर रंग लगाकर इस त्योहार को मनाया जाता है। 

प्रतीकात्मक

लेकिन इसी बीच होलिका दहन के अवसर पर भाजपा नेता राम बाबू द्वेदी पर केस दर्ज हो गया है। दरअसल, राम बाबू ने 19 मार्च को होलिका दहन पर बसपा सुप्रीमो मायावती व सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के पोस्टर जला दिए थे। जिसके बाद अखिलेश व उनके समर्थकों ने इस पर आपत्ति जताई और उनके खिलाफ केस दर्ज करा दिया। 

इस संबंध में अखिलेश यादव ने होलिका दहन में अपने व मायावती के फोटो जलाने को लेकर ट्वीट किया कि, ‘बाराबंकी के इस ‘होलिका दहन’ का संदेश स्पष्ट है। दलित व पिछड़े समाज को भाजपा काल में वैसे ही दबाया-जलाया जाएगा जैसा सदियों से हुआ है। बीते 5 वर्षों में दलित व पिछड़े वर्गों का अपमान और उनके साथ अन्याय ने हर सीमा पार कर दी है। अब वंचित वर्गों का आक्रोश भाजपा को जल्द दिखाई देगा।‘

वहीँ इस पर विधान परिषद सदस्य राजेश यादव ने थाने में मामला दर्ज करवाकर बड़ी कार्रवाई की मांग की।