+

मोदी सरकार की बड़ी कार्यवाई, अलगाववादी नेता यासीन मलिक के JKLF को किया बैन

लोकसभा चुनाव सिर पर हैं, लेकिन चुनाव से एक महीने तक भी सरकार एक्शन मोड में दिख रही है। शुक्रवार को नरेंद्र मोदी सरकार ने अलगाववादी नेता यासीन मलिक के जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) को बैन कर दिया है। केंद्र ने यह फैसला आतंक विरोधी कानून के तहत किया है। केंद्र द्वारा अलगाववादी संगठनों पर यह बड़ी कार्रवाई के तौर पर देखा जा रहा है। इससे पहले 22 फरवरी को जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने यासीन मलिक को गिरफ्तार कर दिया था। 

प्रतीकात्मक

बता दें कि यासीन मलिक की जेकेएलएफ पर कई दफे आतंकी गतिविधियों को समर्थन करने का आरोप लग चुका है। वहीँ जानकारी के अनुसार JKLF को सबसे कमजोर संगठन भी माना जाता है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी मान्यता मिली हुई थी। तीन महीने से प्रक्रिया चल रही थी। 

प्रतीकात्मक

मीडिया को इस बात की जानकारी केंद्रीय गृह मंत्री राजीव गाबा ने दी। उन्होंने बताया कि 'केंद्र सरकार ने आज गैरकानूनी गतिविधियां अधिनियम 1967 के तहत जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट को गैरकानूनी असोसिएशन घोषित किया है। यह कदम सरकार के द्वारा आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति के तहत उठाया गया है।'

गौरतलब है, इससे पहले सरकार ने जमात ए इस्लामी पर भी बैन लगाया था। केंद्र सरकार द्वारा लगातार लिए गए इन फैसलों से अलगाववाद के खिलाफ सरकार की कड़ी नीति जाहिर होती है। इसके साथ ही प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भी इस मामले में पिछले कई दिनों जम्मू कश्मीर में छापेमारी मारी थी। जिसमें यासीन मलिक के कई ठिकानों पर छापेमारी हुई थी।