+

SP-BSP alliance - गेस्ट हाउस कांड को भूल मायावती ने मिलाया सपा से हाथ

उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी तथा समाजवादी पार्टी ने गठबंधन किया है। BSP सुप्रीमो मायावती तथा SP अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस कर सीटों के बंटवारे की घोषणा की है। इस दौरान मायावती ने कहा की 1993 में बसपा ने सपा के साथ गठबंधन करके सरकार बनाई थी। वर्तमान में जहरीली, सांप्रदायिक तथा जातिवादी राजनीति को प्रदेश से दूर रखने के लिए फिर से ऐसा किया गया है। मायावती ने कहा की आगामी लोकसभा चुनावों में बसपा तथा सपा ने गठबंधन कर चुनाव लड़ने का फैसला किया है। 2019 में यह गठबंधन एक नयी क्रांति के रूप में जाना जाएगा। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस ने मायावती ने कई बार गेस्ट हाउस कांड का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा की 1995 में हुए गेस्ट हाउस कांड से ऊपर देश को  गठबंधन का यह फैसला किया है। हमने 4 जनवरी को दिल्ली में बैठक की थी तथा सभी 80 सीटों पर चुनाव लडनेका फैसला किया था। इस बात की भनक शायद बीजेपी को लग गई थी और इसके बाद में उन्होंने अखिलेश यादव का नाम खनन घोटाले से जोड़ दिया। 

प्रतीकात्मक

आपको बता दें की 4 दिसंबर 1993 को सपा तथा बसपा ने गठबंधन करके चुनाव को जीता था। लेकिन 2 जून, 1995 को बसपा ने अपना समर्थन वापस ले लिया था जिसके बाद यह गठबंधन टूट गया था। 3 जून, 1995 में मायावती ने बीजेपी एक साथ मिलकर उत्तर प्रदेश में सत्ता की कमान संभाली थी। इसके बाद उन्मादी भीड़ ने  मायावती को सबक सिखाने के लिए 2 जून 1995 को हमला किया था। इस हमले को ही यूपी की राजनीति में गेस्ट हाउस कांड के  जाता है।