+

पत्रकार के लिए राहुल गांधी बोले PLIABLE, अब लोग गूगल से पूछ रहे मतलब

अपने भाषणों और बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में आते रहे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी आजकल एक बार फिर सुर्खियों में हैं। बस सुर्खियों में आने के तरीके में अभी कुछ बदलाव नजर रहा है। पहले राहुल गाँधी अपनी जुबान फिसल जाने को लेकर चर्चा में रहते थे, लेकिन अब की बार ऐसा कोई वाक्या नहीं है। इस बार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने जो भी कहा सोच समझकर कहा। बल्कि इस बार वो कुछ ऐसा कह गए कि लोगों को उसका मतलब समझने के लिए गूगल की डिक्शनरी खोलनी पड़ रही है।

प्रतीकात्मक

दरअसल नए साल के मौके पर एएनआई की पत्रकार स्मिता प्रकाश ने प्रधानमंत्री नरेंद मोदी का इंटरव्यू लिया था। इंटरव्यू के बाद राहुल गाँधी ने स्मिता प्रकाश पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह एक 'Pliable' पत्रकार हैं। अब राहुल गांधी ने तो यह कह दिया, लेकिन लोगों को इसका मतलब समझने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ी। राहुल गांधी के यह कहते ही स्मिता प्रकाश ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी के अध्यक्ष को यह शोभा नहीं देता कि वह एक इंटरव्यू के आधार पर किसी पत्रकार पर हमला करें। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि 'आपको पीएम मोदी की आलोचना करनी है, कीजिए। लेकिन मेरी आलोचना करना बेहद अजीब है।'

इस पर केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने भी ट्वीट के जरिये अपनी प्रतिक्रिया दी। अरुण जेटली ने लिखा कि 'आपातकाल लागू करने वाली तानाशाह के पोते ने एक स्वतंत्र पत्रकार पर सवाल उठाकर और धमकाकर अपना असल डीएनए दिखा ही दिया।'

वहीँ इसके बाद कांग्रेस ने वीडियो जारी किया कि प्लायेबल बुरा शब्द नहीं है। साथ ही कांग्रेस ने लिखा कि 'यह तो आज की पत्रकारिता की हालत है।'