+

कांग्रेस और AIADMK ने किया वॉकआउट, तीन तलाक बिल पास

प्रतीकात्मक

तीन तलाक को ख़त्म करने के मकसद से लाए गए ट्रिपल तलाक विधेयक को लम्बी चर्चा के बाद लोकसभा में पास कर दिया गया,  हालांकि वोटिंग के समय कांग्रेस और एआईएडीएम ने लोकसभा से वॉकआउट किया,  कांग्रेस की मांग थी कि इस बिलसे को लेक्ट कमेटी के पास भेजा जाए. सदन में विपक्षी पार्टियां जहां इस बिल का विरोध कर रही थीं, वहीं सरकार का कहना था, कि नारी गरिमा के हक में सभी पार्टियां साथ आएं। लोकसभा में तीन तलाक बिल को पास कराने के लिए बीजेपी ने पहले ही अपने सांसदों को व्हीप जारी कर सदन में उपस्थित होने को कहा था। 

प्रतीकात्मक

दरअसल, पिछले सप्ताह कांग्रेस ने इस बिल पर चर्चा के लिए सहमति जताई थी कि वह 'मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक-2018' पर होने वाली चर्चा में भाग लेगी। लेकिन सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सुझाव दिया कि इस पर अगले हफ्ते चर्चा कराई जाए. इस पर संसदीय कार्य मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने विपक्ष से आश्वासन मांगा कि उस दिन बिना किसी बाधा के चर्चा होने दी जाएगी, इस पर खड़गे ने कहा, 'मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि इस विधेयक पर 27 दिसंबर को चर्चा कराइए,  हम सभी इसमें हिस्सा लेंगे, हमारी पार्टी और अन्य पार्टियां भी चर्चा के लिए तैयार हैं। 

प्रतीकात्मक

  • इसके बाद संसद में वोटिंग हुयी और तीन तलाक बिल पास हो गया। 
  • लोकसभा में तीन तलाक बिल पास हो जाने के बाद इसे सेलेक्ट कमेटी के पास भेजा जाए। 
  • NCP सांसद सुप्रिया सुले ने कहा कि एक साल के बाद ट्रिपल तलाक बिल पर दोबारा चर्चा हो रही, इस एक साल में क्या बदला। 
  • केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि इस देश ने वह मंजर भी देखा जब दहेज लेने का कुछ लोगों ने समर्थन किया, लेकिन सदन ने इसे अपराध माना. सती प्रथा को भी खत्म किया गया.
  •  मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि इस्लामिक देशों ने दशकों पहले 3 तलाक की कुरीति को खत्म किया.
  •  अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि यह इस्लाम धर्म से संबंधित मामला नहीं, यह एक सामाजिक कुरीति है. इसी तरह से सती प्रथा और बाल विवाह को भी खत्म किया गया.
  • भाजपा सांसद मिनाक्षी लेखी ने लोकसभा में कहा कि महिलाओं के लिए सरकार ने की काम किए हैं. बिल को राजनीतिक रूप न दिया जाए.