+

अब आयकरदाताओं को नहीं करना पड़ेगा रिफंड का इंतज़ार

आयकरदाताओं  फंड का रिटर्न अब मात्र 24 घंटे में ही हो जाएगा। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) की आइटी संरचना में सुधार के लिए सरकार ने 4,200 करोड़ रुपये आवंटित किये थे। अतः राजस्व विभाग अगले 2 साल में ऐसी व्यवस्था तैयार कर लेगा जिससे 24 घंटे में ही टैक्स की रिटर्न प्रोसेसिंग हो जाय करेगी। राजस्व सचिव अजय भूषण पांडेय ने इस बारे में बताते हुए कहा है कि "वर्तमान में फंड की ऑनलाइन प्रोसेसिंग खुद ब खुद होती है। इस वर्ष 1.50 लाख करोड़ रुपये के फंड का रिफंड सीधे लोगों के खाते में हुआ है।

प्रतीकात्मक

 

अब इस सिस्टम में और भी सुधार किया जा रहा है ताकी 24 घंटे में ही करदाताओं को टैक्स का रिफंड किया जा सके। हम लोग फेसलेस असेसमेंट शुरू करने की 2 साल की सीमा के भीतर इसको जल्दी ही लागू कर देंगे। आपको बता दें की अंतरिम बजट 2019-20 पेश करते हुए कार्यकारी वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था की "टैक्स विभाग अब ऑनलाइन कार्य कर रहा है।  रिटर्न, असेसमेंट, रिफंड का काम भी ऑनलाइन किया जा रहा है। हमारी सरकार ने टैक्स विभाग को असेसी फ्रेंडली बनाने के लिए तकनीक पर आधारित क्रांतिकारी योजना शुरू की है। अब सभी रिटर्न 24 घंटे में ही प्रोसेस कर दिए जाएंगे तथा इस दौरान रिफंड भी जारी कर दिया जाएगा।