+

खुला बजट 2019 का पिटारा, जानें किसको क्या मिला

चुनाव निकट आते जा रहें हैं। इस चुनावी वर्ष में किसानों को लेकर केंद्र सरकार ने कई अहम बदलाव किये हैं। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल में इस वर्ष बजट को पेश किया। किसानों के लिए शुरू की गई इस योजना का नाम "प्रधानमंत्री किसान योजना" है।

प्रतीकात्मक

 

प्रधानमंत्री किसान योजना-

इस योजना के तहत 2 हेक्टेयर से कम जमीन वाले किसानों को केंद्र सरकार 6 हजार रुपये प्रतिवर्ष उनके खातों में सीधे देगी। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल का कहना है की "इस योजना के लिए सालाना 75 हजार करोड़ रुपये का खर्च आएगा। हम लोगों ने 22 फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाया है तथा किसानों की आय बढ़ाने का पूरा प्रयास किया है।"

प्रतीकात्मक

 

श्रमिकों का बोनस बढ़ा - 

आपको हम बता दें की केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने अपने इस बजट में श्रमिकों का बोनस भी बढ़ाया है। इसके तहत 7 हजार तथा 21 हजार के वेतन वाले श्रमिकों को वोनस दिए जानें की घोषणा की गई है। इसके अलावा इस बजट में पीएम श्रमयोगी मानधन योजना की शुरुआत हुई है। इसके तहत 15 हजार तक का वेतन पाने वाले श्रमिकों को 10 करोड़ श्रमिकों को इसका लाभ मिलेगा। 

प्रतीकात्मक

 

श्रमयोगी मानधन योजना मजदूरों के लिए सौगात - 

केंद्र सरकार ने असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिए पेंशन योजना की शुरआत की है। इस योजना के तहत 15 हजार रुपये तक कमाने वाले मजदूरों को सरकार की और से 3 हजार रुपये प्रतिमाह दिए जाएंगे। कम आमदनी वाले श्रमिकों को 100 रुपये प्रतिमाह तथा 60 वर्ष से अधिक की आयु पर 3 हजार रुपये प्रति माह सरकार श्रमिक को देगी। इसके अलावा उसकी मौत पर सरकार 6 लाख का मुआवजा भी देगी। 

प्रतीकात्मक

 

बजट की अन्य जानकारी - 

आरक्षण नीति को सरकार ने पहले की तरह ही रखा है लेकिन सामान्य वर्ग के कमजोर लोगों के लिए शिक्षा तथा सरकारी नौकरी में 10 फीसदी आरक्षण को लागू किया गया है। इसके अलावा रक्षा बजट बढ़ा कर 3 लाख करोड़ रुपए किया गया है। दूसरी और गायों के लिए 750 करोड़ रुपए के फंड की घोषणा की गई है तथा हरियाणा में देश का 22वां एम्स खोलने का वादा भी इस बजट में किया गया है। पीयूष गोयल ने बजट पेश करते हुए कहा कि सरकार काले धन को ख़त्म करने के लिए भी प्रतिवद्ध है और इसके लिए सरकार कई कड़े कानून लेकर आयी है। छोटे कारोवारियों को जीएसटी में राहत दी गई है। आयुष्मान योजना का जिक्र करते हुए पीयूष गोयल ने कहा की इस योजना के तहत अब तक करीब 10 लाख लोगों का इलाज किया जा चुका है। इसके अलावा सरकार ने 6 करोड़ एलपीजी गैस कनेक्शन मुफ्त बाटें हैं। वेतनभोगियों के लिए भी सरकार ने अपने इस बजट में ग्रैच्युटी भुगतान सीमा 10 से 20 लाख की है। ईपीएफओ की बीमा राशि को इस बजट में बढ़ाया गया है। बता दें की ईपीएफओ की बीमा राशि को बढ़ा कर 6 लकह कर दिया गया है। नितिन गडकरी के मंत्रालय के बारे में जानकारी देते हुए पियूष गोयल ने कहा है की उनके मंत्रालय के अंतर्गत वाराणसी से बंगाल तक जलमार्ग की शुरुआत की गई है तथा मानव रहित सभी फाटकों को ख़त्म किया जा चुका है। आज देश में हवाई अड्डों की संख्या 100 से ज्यादा है। पिछले 5 वर्ष में 34 करोड़ जनधन खाते खोले गए हैं जिनका लाभ गरीब लोगों को मिला है। इसके अलावा पियूष गोयल ने कहा है की 5 लाख  रुपये तक की सालाना सैलरी पर अब किसी प्रकार का कोई टैक्स नहीं लगेगा। इसके अलावा इस बजट में निवेश करने पर भी टैक्स में छूट का प्रावधान किया गया है। आपको बता दें की सरकार ने 6.5 लाख तक के निवेश को टैक्स फ्री किया है।