+

तांबे के बर्तन का पानी बचाता है हार्ट अटैक सहित 20 अन्य बीमारियां से।

तांबे के बर्तन का उपयोग हमारे देश में प्राचीन काल से होता रहा है। पूजा पाठ में आज भी तांबे के बर्तनों का उपयोग खूब किया जाता है। आज भी बहुत से लोग रात को तांबे के बर्तन में पानी भरकर रख देते हैं तथा सुवह होने पर उसको पीते देखे जाते हैं। आयुर्वेद के अनुसार तांबे के बर्तन का पानी आपके शरीर के तीनों तत्व अर्थात वात, कफ, पित्त को बैलेंस में रखता है। इन तीनों के बैलेंस में रहने के कारण आपक बीमारियों का शिकार नहीं होते हैं। अतः तांबे के बरतन का पानी आपको स्वस्थ रखने में अपना बड़ा योगदान देता है। 

प्रतीकात्मक

 

तांबे के बर्तन के पानी का लाभ आपको उसी समय मिलता है। जब वह पानी कम से कम 8 घंटे तक तांबे के बर्तन में रखा गया हो। यह आपके शरीर के बेड कोलेस्ट्रॉल को ख़त्म कर गुड़ कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है। इस कारण आपको हार्ट अटैक जैसी समस्याएं नहीं होती है तथा आप ह्रदय संबंधी समस्याओं से मुक्त रहते हैं। यदि आप तांबे के बर्तन में रखे पानी का सेवन नियमित रूप से करते हैं तो आपकी याददाश्त बढ़िया बनी रहती है तथा आपका दिमाग भी तेज बना रहता है। इस प्रकार से तांबे के बर्तन का पानी आपके मस्तिष्क के लिए भी बहुत लाभकारी होता है। 

प्रतीकात्मक

 

तांबे के बर्तन का पानी आपके पेट के लिए भी बहुत लाभदायक होता है। यह आपके पेट में मौजूद खतरनाक बैक्टीरिया को मार डालता है। इस कारण आपको कभी पेट के अल्सर या संक्रमण की समस्या नहीं हो पाती है। इस पानी का सेवन करने से आपको पेट में गैस या एसिडिटी जैसी समस्या नहीं होजति है। तांबे के बर्तन का पानी न सिर्फ आपके पेट को लाभ पहुंचाता है बल्कि यह आपकी किडनी तथा लीवर की सफाई भी अच्छे से कर देता है। इस कारण से आपको लीवर तथा किडनी की समस्याओं से निजात मिल जाती है।

प्रतीकात्मक

 

तांबे के बर्तन का पानी आपके शारारिक दर्द को कम करने में भी आपने योगदान देता है। यह अर्थराइटिस की समस्या से भी आपको बचाता है। तांबे के बर्तन का पानी आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है इस कारण आप कई प्रकार के वायरल तथा संक्रमण से भी बचाता है।  स्किन के लिए भी बहुत अच्छा होता है। तांबे के बर्तन का पानी आपकी स्किन से फाइन लाइंस तथा झाइयों को कम करता है और आपकी स्किन की चमक को बढ़ाता है। इस प्रकार से तांबे के बर्तन का पानी आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत ही अच्छी तथा लाभकारी ओषधि के रूप में भी जाना जाता है।