+

कान छिदवाने के पीछे छुपे हैं कई वैज्ञानिक कारण

भारतीयों में कान छिदवाने की परंपरा वर्षों पुरानी है और इसके पीछे कई सारी मान्यताएं भी हैं। लेकिन भारत की यह परंपरा अब विदेशों में भी काफी प्रचलित हो गई है। इस परंपरा को लोग आज फैशन बनाकर अपना रहे हैं। पहले सिर्फ महिलाएं ही कान छिदवाती थी, लेकिन अब पुरुष भी फैशन के तौर पर अपने कान छिदवाने लगे हैं। कुछ लोगों का मानना है कि ये एक्युपंचर का पॉइंट होता है, जिसका उपयोग उपचार के लिए किया जाता है। इसके अलावा भी कान छिदवाने के पीछे कई वैज्ञानिक कारण हैं। चलिए जानते हैं... 

प्रतीकात्मक

 

मानसिक क्षमता का विकास : वैज्ञानिक दृष्टिकोण से कान छिदवाने से व्यक्ति के दिमाग में खून का संचार सही तरह से होता है। जिससे व्यक्ति की बौद्धिक क्षमता में वृद्धि होती है। शायद इसीलिए प्राचीन काल में गुरुकुल में जाने वाले सभी विद्यार्थियों के कान छेदे जाते थे। ताकि विद्यार्थियों का दिमागी विकास अच्छा हो। 

आंखो की दृष्टि में सुधार : कान छिदवाने से व्यक्ति की आंखो की दृष्टि में भी सुधार होता है। एक्युपंचर के अनुसार कान के उस पॉइंट का संबंध आंखों की रोशनी से होता है। एक्युपंचर में आंखो की रोशनी सही रखने में कान के इसी बिंदु पर जोर दिया जाता है। 

प्रतीकात्मक

 

कान को भी रखता है स्वस्थ : कान के इसी छेद वाले हिस्से में दो खास एक्यूप्रेशर पॉइंट्स होते हैं। जिन्हें  मास्टर सेंसोरियल और मास्टर सेरेब्रल कहते हैं। यह पॉइंट सुनने की क्षमता को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। टिनिटस के लक्षणों में राहत के लिए कान छिदवाना लाभदायक माना जाता है। 

पाचन तंत्र को रखे दुरुस्त : वैज्ञानिक दृष्टि से कान छिदवाने का कारण पाचन तंत्र को दुरुस्त रखना भी है। क्योंकि इस पॉइंट पर दबाव से पाचन प्रणाली को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है। और इस पॉइंट पर प्रेशर से भूख भी लगती रहती है। 

लकवे से भी बचाव : माना जाता है कि कान छिदवाने से व्यक्ति को लकवे की शिकायत भी दूर होती है। साथ ही यह शरीर सुन्न पड़ने से भी बचाता है। 

प्रतीकात्मक

 

महिलाओं के लिए फायदेमंद : कान के बीच के बिंदु को प्रजनन के लिए जिम्मेदार माना जाता है। जो पुरुषों के साथ-साथ महिलाओं के लिए भी फायदेमंद होता है। इसके अलावा यह महिलाओं की पीरियड्स समय पर न आने की परेशानी को भी दूर करता है।

पुरुषों को भी हैं फायदे : वैज्ञानिकों द्वारा कान छिदवाना पुरुषों के अंडकोष को और वीर्य को संचित करने में फायदेमंद होता है। इसके अलावा कान छिदवाने से कई तरह के इन्फेक्शन और हर्निया की परेशानी से भी बचाव होता है। कान छिदवाने से व्यक्ति के चेहरे पर चमक और निखार भी आता है।