+

पेट के रोगों से लेकर कैंसर तक में फायदा करता है सरसों का साग

सर्दियों में ऐसी बहुत सी चीजें हैं। जिनको खाने का आंनद सिर्फ सर्दी में है। सरसों का साग उन चीजों में से एक है। यह सर्दी एक मौसम के अनुकूल होता है अतः इसका सेवन करने से आपको बहुत से लाभ मिलते हैं। सरसों का साग सर्दी जुकाम से लेकर ह्रदय रोगों में लाभकारी होता है। सरसों के साग में बहुत से विटामिन, मिनरल्स तथा फाइबर पाए जाते हैं। इस साग में कैलोरी की मात्रा भी काफी कम होती है। अतः यह पोषक तत्वों की आपूर्ति को बढ़ा देता है लेकिन आपका बजन  नहीं बढ़ने देता है। यह आपके रक्त संचार को दुरुस्त रखता है साथ ही नसों के ब्लॉकेज की समस्या से भी आपको बचाता है। इसके अलावा सरसों का साग आपके बहुत से रोगों को दूर कर देता है। आइये जानते हैं की सरसों का साग कौन कौन से रोगों में आपको लाभ देता है। 

प्रतीकात्मक

 

कैंसर से करता है बचाव - 

सरसों का साग आपको कैंसर से भी बचाता है। असल में सरसों का साग में बहुत से एंटीआक्सीडेंट होते हैं। जो आपके शरीर की रोग प्रति रोधक क्षमता को बढ़ाते है। इसमें पाए जाने वाले कई एंटीआक्सीडेंट आपको कैंसर रोग से बचाते हैं। इसके अलावा यह आपके शरीर को भी डीटॉक्सीफाई करता है। 

प्रतीकात्मक

 

जोड़ो के दर्द में लाभकारी - 

सरसों के साग में विटामिन ए, सी, डी, बी-12 पाए जाते हैं। इसके अलावा इसमें आयरन, पोटेशियम तथा कैल्शियम जैसी चीजें पाई जाती हैं। जो आपके शरीर की आतंरिक गंदगी को बाहर कर आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। ये चीजें आपके कोलेस्ट्रॉल को सही रखती हैं तथा पाचन तंत्र को सही रखती हैं। इसमें पोटेशियम तथा कैल्शियम भी बड़ी मात्रा में पाए जाते हैं जो आपकी हड्डियों को स्वस्थ तथा सुरक्षित रखते हैं। अतः जोड़ो के दर्द के रोगियों को सरसों का साग अवश्य खाना चाहिए। 

प्रतीकात्मक

 

पेट रोगों में है फायदेमंद - 

सरसों के साग में फाइबर भी अच्छी मात्रा में पाया जाता है। इसके सेवन से आपकी आंते स्वस्थ रहती हैं तथा शरीर का मेटाबॉलिज्म भी दुरुस्त बना रहता है। सरसों के साग में जरुरी विटामिन्स तथा मिनरल्स पाए जाते हैं। जो आपके पेट को साफ़ रखते हैं। इसके सेवन से आपको एसिडिटी तथा पेट की बिमारियों से छुटकारा मिलता है।