+

स्वाइन फ्लू - जानें तेजी से फैलते इस रोग के लक्षण और बचाव

स्वाइन फ्लू का प्रकोप अब देश में बढ़ने लगा है। ख़ास कर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में यह रोग तेजी से अपने पैर पसार रहा है। इसी के मद्देनज़र केंद्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्री जेपी नड्डा ने एक बैठक की है तथा सभी राज्यों के स्वास्थ्य सचिवों को निर्देश जारी किये हैं। इन लोगों को स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है की ये सभी लोग सरकारी तथा निजी अस्पतालों में स्वाइन फ्लू के पॉजिटिव मरीजों का डेटा इकठ्ठा करें तथा केंद्र को सूचित करें। नेशनल कंट्रोल डिजीज सेंटर तथा एनसीडीसी के सभी राज्यों को भी इस डेटा की जानकारी इकट्ठी करने को कहा गया है। 

इस प्रकार से होता है स्वाइन फ्लू - 

ए व बी श्रेणी में खांसी-जुकाम जैसी समस्या होती है। इस अवस्था में रोगी का एच1एन1 टेस्ट कराने की आवश्यकता नहीं होती है और न ही मरीज को अस्पताल में भर्ती कराने की। श्रेणी सी में मरीज की स्थिति बिगड़ने लगती है। अतः उसको अस्पताल में भर्ती कराना पड़ता है तथा टेस्ट बह कराना पड़ता है। 

प्रतीकात्मक

स्वाइन फ्लू के लक्षण - 

छींक आना, बुखार, खांसी, जुकाम, शरीर या सिर में दर्द, सांस लेने में समस्या होना। ये सभी लक्षण स्वाइन फ्लू के हैं। यदि बलगम में ब्लड आने, सीने में दर्द होने या बेहोश होने की समस्या आती है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। 

स्वाइन फ्लू से ऐसे करें बचाव - 

इस रोग के मरीज को एक कमरे में अकेले ही रखना चाहिए। उसको छींक या खांसी आने पर रुमाल या टिशू का इस्तेमाल करना चाहिए। इस रोग से बचने के लिए आम लोगों को अपने हाथों को हमेशा साफ़ रखना चाहिए। भीड़भाड़ वाले स्थान पर जानें से बचना चाहिए। ऐसी जगह में मास्क लगाकर ही जाना चाहिए। अभिवादन के लिए हाथ मिलाने के स्थान पर दूर से ही नमस्ते कर लेनी चाहिए। हाथ मिलाने से वायरस फैलने का खतरा पैदा हो जाता है।