+

CBI निदेशक आरके शुक्ला की नियुक्ति पर कांग्रेस ने उठाये सबाल

ऋषि कुमार शुक्ला ने नये सीबीआई निदेशक का पदभार सोमवार को संभाला है। ऋषि कुमार शुक्ला आईपीएस के 1983 बैच के अधिकारी रहे हैं। शुक्ला ऐसे समय में पदभार संभाल रहें हैं जब एजेंसी तथा कोलकाता पुलिस के बीच का विवाद राजनीतिक रूप ले चुका है। इस समय केंद्र तथा बंगाल सरकार भी एक दूसरे के सामने खड़ी हैं। सीबीआई के प्रवक्ता नितिन वाकणकर ने इस बारे में बताते हुए कहा है कि "आर के शुक्ला ने सोमवार की सुबह को सीबीआई निदेशक का कार्यभार संभाला है। वे मध्य प्रदेश के पूर्व डीजीपी तथा ख़ुफ़िया विभाग के अनुभवी अधिकारी रहे हैं।

प्रतीकात्मक

 

पूर्ण निदेशक के रूप में शुक्ला के कार्यभार संभालने के बाद में एजेंसी के कार्य में स्थिरता आने की उम्मीद है। एजेंसी पहले ही पोंजी घोटाला मामलों में बंगाल सरकार के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में जाने का फैसला कर चुकी है। इसी समय पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी केंद्र सरकार तथा अमित शाह के खिलाफ धरने पर बैठ चुकी हैं। 

प्रतीकात्मक

 

वहीं दूसर और मध्य प्रदेश के मंत्री ने आरके शुक्ला को लेकर अपशब्द कहें हैं। मंत्री सामान्य प्रशासन एवं सहकारिता मंत्री डॉ. गोविंद सिंह मध्य प्रदेश सरकार में हैं। इनका कहना है की "शुक्ला के डीजीपी के रहते मध्य प्रदेश में जाति के आधार पर दलित लोगों की हत्या के मामले सामने आये थे। शुक्ला एक अयोग्य अफसर हैं। मैं समझता था की वे ग्वालियर-चंबल संभाग के शेर होंगे लेकिन असल में वे शेर की खाल में भेड़िया निकले।"